वन विभाग के कर्मचारियों की सेहत बनाने जिम के नाम पर लाखों रुपए गड़बड़ी, चार माह से दौड़ा रहे कागजी फाइल

वन विभाग के कर्मचारियों की सेहत बनाने जिम के नाम पर लाखों रुपए गड़बड़ी, चार माह से दौड़ा रहे कागजी फाइल

Deepak Sahu | Publish: Sep, 02 2018 09:00:00 PM (IST) Kanker, Chhattisgarh, India

वन विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की सेहत बनाने जिम के नाम पर लाखों रुपए की गड़बड़ी सामने आ रही है।

कांकेर. छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में वन विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की सेहत बनाने जिम के नाम पर लाखों रुपए की गड़बड़ी सामने आ रही है। विभाग के जिम्मेदारों ने खंडहर भवन मेंं अपने कर्मचारियों को सेहतमंद बनाने के लिए कागजी फाइल चार माह से दौड़ा रहे हैं। चार माह में न तो जिम की एक भी सामग्री आई न ही खंडहर भवन में किसी कर्मचारी ने सेहत बनाने के लिए व्यायाम करने गया और विभाग के दस्तावेज में 2.60 लाख रुपए खर्च भी हो गया। पड़ताल करने पर वन विभाग के जिम्मेदारों ने कहां जिम तैयार हो चुका है और चार माह से हम सभी अपनी-अपनी सेहत बना रहे हैं।

वन विभाग की ओर से तैयार जिम के पड़ताल में शनिवार को पत्रिका टीम कांकेर डीएफओ दफ्तर के पीछे पहुंची तो वहां खंडहर युक्त एक भवन दिखा। खंडहर भवन की दिवार का कुछ भाग तोड़ा हुआ दिख रहा था। उक्त स्थान पर घास उगी थी और सामने मलबा पड़ा था। वन विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि उक्त भवन वन संपदा उत्पाद संग्रहण का है अब खंडहर हो जाने पर उपयोग में नहीं लिया जा रहा है। खंडहर भवन में टीम पहुंची तो एक सांप दिख गया।

 

cg news

भवन में कबाड़ पड़े हुए थे। वन विभाग के दस्तावेज के अनुसार उक्त स्थान पर नियमित कर्मचारी और अधिकारी अपनी सेहत चार माह से बना रहे हैं। सूत्रों की माने तो इस खंडहर भवन मेंं 2.60 लाख रुपए के बजट से वेट लिफिटिंग मशीन एवं अन्य उपकरण जिम में लगाया गया है। टीम ने जब वन विभाग के कर्मचारियों से जिम के संबंध में जानकारी चाही तो बोलने से इनकार कर दिए। जिम्मेदार अधिकारी से चर्चा की तो जिम तैयार होना बताया गया और सभी सामान उपलब्ध होने दावा किया।

तस्वीर खुद बयां कर रही हकीकत:- वन विभाग के अधिकारी जहां सेहतमंत बनने के लिए जिम होना बता रहे हैं उक्त स्थान की तस्वीर स्वयं बया कर रही कि शासकीय धन की बंदबांट कैसे की जा रही है। खंडहर भवन को कागज में जिम बताकर लाखों की सामग्री खरीदी होना दर्शाया जा रहा है। जबकि मौके पर उक्त भवन में कबड़ा और मलबा पड़ा है।

ड्यूटी के समय में सेहत बनाएंगे विभाग के अफसर
डीएफओ परिसर में लाखों रुपए के बजट से जहां जिम बनाया जा रहा उक्त स्थान पर बाहर का कोई व्यक्ति नहीं पहुंच सकता है। रही बात वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की तो वे सुबह 10.30 बजे अपनी-अपनी ड्यूटी पर आएंगे। शाम 5:30 बजे तक सेवा देना अनिवार्य है। इसके बाद चपरासी गेट में ताला लगा देगा। ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा कि इस जिम को किसके लिए बनाया जा रहा है। शासन के पैसे को बर्बादी के लिए या ड्यूटी के सयम कर्मचारियों को सेहत की मस्ती के लिए लाखों रुपए फूंका जा रहा है। यह तो वन विभाग में फर्जीवाड़ा का नमुनाभर है।

Ad Block is Banned