scriptMines effected people facing clean drinking water in Kanker | 4 साल में 340 करोड़ DMF की मिली राशि फिर भी प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीण पी रहे झरिया का पानी | Patrika News

4 साल में 340 करोड़ DMF की मिली राशि फिर भी प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीण पी रहे झरिया का पानी

लौह अयस्क खनन में चार साल में 340 करोड़ की रायल्टी के बाद भी माइंस प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों को प्यास बुझाने के लिए झरिया के पानी का सहारा लेना पड़ रहा है।

कांकेर

Updated: October 23, 2021 05:46:28 pm

कांकेर. लौह अयस्क खनन में चार साल में 340 करोड़ की रायल्टी के बाद भी माइंस प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीणों को प्यास बुझाने के लिए झरिया के पानी का सहारा लेना पड़ रहा है। गांव में न तो सीसी सड़क बनी और न ही पुल पुलिया का निर्माण कराया गया।चिराग की रोशनी में संकट भरी जिंदगी आज भी आदिवासी काटने के लिए मजबूर हैं।
jhiriya_water.jpg
4 साल में 340 करोड़ DMF की मिली राशि फिर भी प्रभावित क्षेत्र के ग्रामीण पी रहे झरिया का पानी
खनिज विभाग के दस्तावेज में 6 लौह अयस्क खदानों का संचालन हो रहा है। हर साल लौह अयस्क संपदा के एवज में प्रभावित क्षेत्रों के विकास के लिए करोड़ों की रायल्टी मिल रही है। प्रभावित क्षेत्र के बच्चों को पढ़ने के लिए अंग्रेजी माध्यम स्कूल, स्वास्थ्य के लिए अच्छा अस्पताल, रोजगार के संसाधन, शुद्ध पानी, पक्की सड़क, नदी नालों में पुल-पुलिया का निर्माण डीएमएफ मद से कराया जाना है। पर एक पैसे का काम नहीं हो रहा है।
mines_area_in_kanker.jpgडीएमएफ मद की राशि प्रभावित क्षेत्र में खर्च करने के बजाए शहरीय क्षेत्र में कमीशन में बंदरबांट हो रहा है। कम्पनी की दो प्रतिशत लाभ राशि भी स्थानीय लोगों की जरूरतों पर सीएसआर मद में खर्च की जानी है। चार साल में सीएसआर मद में करोड़ों का घोटाला हो चुका है। माइंस प्रभावित क्षेत्र में पुल-पुलिया नहीं होने के कारण ग्रामीण लकड़ी के पुल-पुलिया से आने जाने को मजबूर हैं। पीने के लिए शुद्ध पानी नहीं होने के कारण झरिया का पानी उपयोग कर रहे हैं। गांव में न तो नज जल योजना से पानी मिल रहा और न ही जल जीवन मिशन के तहत काम हो रहा है।
माइंस से लालपानी निकासी के लिए किसी प्रकार का बंदोबस्त नहीं होने से गरीबों का खेत बंजर हो रहा है। सही स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं होने के कारण गरीब गंभीर बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। माइंस खुलने से पहले आधुनिक सुविधाओं का सपना दिखाया गया लेकिन एक भी पूरा नहीं किया गया। प्रभावित क्षेत्रों के विकास के लिए मिलने वाली डीएमएफ राशि में करोड़ों का बंदरबांट हो रहा है।
jhiriya_water_in_kanker.jpgधरना-प्रदर्शन के बाद भी गरीबों को न्याय नहीं मिला तो थक हार माइंस में मजदूरी के लिए चक्कर लगा रहे हैं। जबकि इसी माइंस से सफेदपोश साठगांठ कर करोड़पति बन रहे हैं। खनन का कार्य भले ही फर्म कर रही हो लेकिन परिवहन से लेकर लोडिंग अनलोडिंग सब सफेदपोशों के बेटे-बेटी कर रहे हैं। विरोध करने पर मजदूरों को फूट डाल उन्हीं के लोगों में आपस में विवाद खड़ा तोड़ देते हैं।
हमारी सरकार में सभी को मिलेगा शुद्ध पानी: सुभद्रा
पांच साल तक जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुकीं कांग्रेस जिला अध्यक्ष सुभद्रा सलाम ने कहा, हमारी सरकार संवेदनशील सरकार है। माइंस प्रभावित क्षेत्र जहां किसी को शुद्ध पानी नहीं मिल रहा मिल जाएगा। कांग्रेस सरकार क्षेत्र का तेजी से विकास कर रही है। सड़क भी बन रही है। लोगों को रोजगार भी मिल रहे हंै। लघु वनोपज की भी खरीदी हो रही है। डीएमएफ और सीएसआर की राशि से विकास करने के लिए कलेक्टर साहब से हम लोगों ने चर्चा की है। सड़क, बिजली, पानी तो सभी लोगों को मिलेगा।
jhiriya_water_news.jpgकांग्रेस सरकार में विकास के नाम पर सिर्फ हो रहा भ्रष्टाचार: लाटिया
प्रदेश में विकास के नाम पर भ्रष्टाचार हो रहा है। करोड़ों की डीएमएफ राशि कमीशनखोरी में शहर में खर्च हो रही है। गरीबों को पानी नहीं मिल रहा और अधिकारी सीएसआर और डीएमएफ की राशि से अपने बंगला और दफ्तर के सामने फूल लगवा रहें है। माइंस में कांग्रेस के नेता ठेकेदारी कर रहे हैं। माइंस से लौह अयस्क खनन संपदा के लिए वीआईपी और नान वीआईपी वाहनों को दर्जा दिया जा रहा है। गांव के लोगों को पानी नहीं मिल रहा और इस सरकार करोड़ों की राशि में खुलेआम भ्रष्टाचार हो रहा है।
पारा का हैंडपंप खराब, झरिया पानी ही सहारा
ग्राम मेटाबोदेली के गढ़वानजपारा में 45 लोग निवास करते हैं। पारा निवासी आमाय बाई धु्रवा ने बताया कि कुछ साल पहले एक हैंडपम्प लगाया गया है। हैंडपम्प से आयरयुक्त आनी आ रहा था, वह भी काफी दिनों से खराब है। हम सब हर रोज झरिया का पानी उपयोग करते हैं। बार-बार माइंस प्रबंधक से आग्रह करने के बाद भी न तो हैंडपम्प लगाया जा रहा और न ही शुद्ध पानी देने का बंदोबस्त हो रहा है।
jhiriya_water.jpgगढ़वानजपारा में आने जाने के लिए पुल-पुलिया भी नहीं
रामप्रसाद ने कहा कि ग्राम मेटाबोदेली के गढ़वानजपारा में 15 परिवार निवास करते हैं। हम ग्रामीणों के लिए न तो सड़क बनी और न ही पुल पुलिया बनाया गया है। बारिश के मौसम में झरिया का पानी पीते हैं। आने जाने के लिए बांस बल्ली के पुल पुलिया का सहारा लेना पड़ता है। सांसद विधायक से गुहार करने के बाद भी कोई सुनने वाला नहीं है। खराब पानी का उपयोग करने से हम गरीबों की सेहत खराब हो रही है।
कम्पनियों न दी रायल्टी
वर्ष लाख रुपए
2016-17 3680.25
2017-18 5314.02
2018-19 8251.58
2019-20 11105.94
2020-21 13972.01

(तेज प्रताप की रिपोर्ट)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Corona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकाGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...यूपी की हॉट विधानसभा सीट : गुरुओं की विरासत संभालने उतरे योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादवक्या चुनावी रैलियों पर खत्म होंगी पाबंदियां, चुनाव आयोग की अहम बैठक आजदेश विरोधी कंटेंट के खिलाफ सरकार की बड़ी कार्रवाई, 35 यूट्यूब चैनल किए ब्लॉकमंत्री ने किया दावा कहा- राज्य की खनन नीति देश में बनेगी मिसालभिलाई में ईंट से सिर कुचलकर युवक की हत्या, रातभर ठंड में अकड़ा शव, पास में मिली शराब की बोतल और पर्चीथाने से सौ मीटर दूरी पर युवक की चाकू से गोदकर हत्या, इधर पत्नी का गला घोंट स्वयं फांसी पर झूल गया पति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.