पशुओं का व्यापार कर रहे तस्करों को पकड़कर ग्रामीणों ने किया पुलिस के हवाले

पशुओं का व्यापार कर रहे तस्करों को पकड़कर ग्रामीणों ने किया पुलिस के हवाले

Deepak Sahu | Publish: Sep, 06 2018 02:51:18 PM (IST) Kanker, Chhattisgarh, India

गाय तस्करी नहीं रूक रही है जिससे ग्रामीण खफा होकर गाय व्यापारियों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया

बासनवाही/दुधावा. दुधावा चौकी क्षेत्र के मुसुरपुट्टा में बुधवार को अलसुबह ग्रामीणों ने पशु व्यापारियों को कुल 300 गाय बछड़ा के साथ पकड़ा। लोगों ने मवेशियों और व्यापारियों को पुलिस को सौंप दिया।

दुधावा पुलिस ने मवेशी व्यापारियोंं व ग्रामीणों के साथ गांव में बैठक रखा गया था। क्षेत्र में आए दिन कोचियों ने गाय बैल जो चल नहीं सकते उसे रास्ते के गांव में छोड़ देते हैं जिसके कारण आसपास के किसान परेशान रहते हंै। कमजोर मवेशी उचित देख रेख के अभाव में गांव में मर जाते है या फिर गांव के आसपास में फेंक देते है जिससे गंदगी फैलती है या वातावरण प्रदूषित होता क्षेत्र में आए दिन किसी न किसी गांव में मवेशी को कोचिए छोड़ कर जाते है इससे क्षेत्र के ग्रामीणों में काफी आक्रोश है।

मुसुरपुट्टा से लगे ग्राम पंचायत बिहावापारा के ग्रामीणों ने पशु तस्करी रोकने के लिए 31 अगस्त को ग्रामसभा में प्रस्ताव पारित कर पुलिस चौकी दुधावा ग्राम पंचायत मुसुरपुट्टा एवं मवेशी बाजार के ठेकेदार को सूचित किया था। बावजूद मवेसी बाजार में गाय तस्करी नहीं रूक रही है जिससे ग्रामीण खफा होकर गाय व्यापारियों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया।

मौके पर दुधावा चौकी के सहायक उप निरीक्षक एस सूर्यवंशी, रमतु राम भगत प्रधान आरक्षक, सुरेश नरेटी आरक्षक, कृष्णा वट्टी सैनिक ने मवेशियों को अपने कब्जे में लेकर पूछताछ की तो ग्रामीणों की सहमति से समझाइश कर जब्त किया गया।

मवेशियों को व्यापारियों को सुपुर्द कर दिया गया और हिदायत दी कि बाजार में गाय एवं छोटे बछड़े की खरीदी बिक्री नहीं की जाएगी जो पकड़ा जाएगा कानूनी कार्रवाई की जाएगी। ग्रामीण दिलीप अरकरा, पुरषोत्तम निषाद पंच अरविन्द भारती, जसवंत मरकाम, उमेन्द्र साहू, बंटी, सुकलाल सोरी, नंदलाल मण्डावी, लतेल यादव, विजय चनाब, प्रदीप सार्वा, नन्दलाल मरकाम, फूलचंद यादव, लकेश नाग, लाभा कोमा, टीकम नेताम, लोकनाथ साहू, बीरेंद्र साहू, हरि ओम साहू ने बताया कि मुसुरपुट्टा मवेसी बाजार में अधिक लाभ कमाने के चक्कर में वृद्ध एवं असहाय पशुओं को खरीदी-बिक्री की जाती है। वृद्ध एवं असहाय पशु चल नहीं पाने पर कही भी छोड़ देते हंै जिससे गांव के किसानों के पासलों को नुकसान पहुंचाते हैं।

मरने के बाद दुर्गंध आने के कारण ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दिलीप अरकरा पूर्व सरपंच ने कहा कि अवैध ढंग से कोचियों ने गाय एवं छोटे छोटे बछड़ा को लाकर बेचते हंै। असहाय मवेशियों को आसपास के गांव में छोड़ देने के कारण आसपास के ग्रामीण आए दिन हमारे गांव के लोगों को शिकायत करते हंै। सीता सोरी मुसुरपुट्टा निवासी ने कहा कि वृद्ध एवं असहाय मवेशी एवं गाय बछड़ा बेचना कानूनी अपराध है। ठेकेदार मवेशी बाजार तोषन साहू ने कहा कि हर महीने दो बार मुनियादि भी करवाया जाता है। वृद्ध असहाय एवं छोटे बछड़े की बिक्री नहीं होती है।

दुधावा चौकी के सहायक उप निरीक्षक एस सूर्यवंशी ने बताया कि मुसुरपुट्टा बिहावापरा के ग्रामीण तथा सरपंच पंच एवं बाजार ठेकेदार के बीच गांव में बैठक में निर्णय लिया गया कि एक बार समझाइश देकर माल कोचियों के सुपुर्द करने का तथा मवेशी बाजार में वृद्ध मवेशी गाय एवं छोटे बछड़े बिक्री खरीदी करते पाए जाने पर क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned