पगडंडियों के सहारे आवागमन करने को मजबूर ग्रामीण, अब तक नहीं बनी सडक़

जिला बनने के बाद से लेकर अब तक पखांजूर क्षेत्र के कुछ ग्रामीण आज भी सुविधाओं के नाम पर अपने आप को ठगा मान रहे हैं।

By: Deepak Sahu

Published: 29 Mar 2019, 10:00 PM IST

पखांजूर. कांकेर जिला बनने के बाद से लेकर अब तक पखांजूर क्षेत्र के कुछ ग्रामीण आज भी सुविधाओं के नाम पर अपने आप को ठगा मान रहे हैं। ग्रामीण आज भी पगडंडियों के सहारे आना जाना करते हैं।

इसके चलते उन्हें तमाम तहत की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, ऐसा नहीं कि क्षेत्र के लोगों ने इसके लिए शासन-प्रशासन से फरियाद नहीं की हो। क्षेत्र के ग्रामीण वर्षों से फरियाद तो कर रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। यह हाल पखांजूर ब्लॉक के बेलगांव से जवेली से निरंदे की जहां आज से दो वर्ष पहले सडक़ निर्माण कार्य तो शुरू हुआ था, लेकिन निर्माण कार्य बीच में ही बंद हो गया। यही कारण रहा कि क्षेत्रवासियों को आवागमन में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

क्षेत्र के लोगों ने पत्रिका से चर्चा करते हुए बताया कि इस गांव के अंतर्गत आठ गांव आते हैं, जिनकी जनसंख्या लगभग 3 हजार से भी ज्यादा है। उन्होंने बताया कि उनके गांव तक पहुंच मार्ग कच्चा होने के कारण सबसे ज्यादा बारिश के दिनों में परेशानियां उठानी पड़ती है। ग्रामीणों ने बताया कि बारिश के दिनों में तो उनका गांव पूरी तरह टापू में तब्दील हो जाता है। जिसके कारण वे बारिश के दो-तीन माह गांव से ही नहीं निकल पाते हैं।

वहीं आपातकालिन सुविधाओं का भी लाभ उन्हें नहीं मिल पाता है। जिसके चलते उन्हें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जिसके चलते ग्रामीणों ने मांग किया कि उनके गांव तक अधूरे सडक़ को जल्द से जल्द पूरा किया जाए ताकि उन्हें परेशानियां न उठानी पड़े।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned