छत्तीसगढ़ में बरस रही आफत की बारिश, गांव बने टापू, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

छत्तीसगढ़ में बरस रही आफत की बारिश, गांव बने टापू, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

Akanksha Agrawal | Updated: 08 Aug 2019, 12:31:25 PM (IST) Kanker, Kanker, Chhattisgarh, India

बुधवार की मूसलाधार बारिश (Heavy rainfall) से कोयलीबेड़ा में जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बारिश का पानी लोगों के घरों में आफत बनकर घुस रहा है।

कांकेर/कोयलीबेड़ा. बुधवार की मूसलाधार बारिश से कोयलीबेड़ा में जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बारिश का पानी लोगों के घरों में आफत बनकर घुस रहा है। आफत की इस बारिश से कच्चे घरों की दीवारें भसक रही हैं।

अगले 24 घंटों के लिए मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के लिए कांकेर सहित बालोद, राजनांदगांव, बेमेतरा, बिलासपुर और कवर्धा जिलों में आरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया है। इसके साथ ही मौसम विभाग (Meteorological Department) ने नारायणपुर, बीजापुर, सुकमा और दंतेवाड़ा जिले में भारी बारिश की संभावना के साथ रेड अलर्ट जारी किया है।

flood in chhattisgarh

ग्रामीणों ने बताया कि कई लोगों का खपरैल का कच्चा घर ढह गया है। क्षेत्र में एक सप्ताह से अधिक बारिश हो रही है। नदी-नालों में उफान है, अब क्षेत्र में हालात बेकाबू होने लगी है। कोयलीबेड़ा के लोगों ने बताया कि कल से मूसलाधार बारिश हो रही है। निचले इलाकों के घरों में पूरी तरह से पानी भर गया है। छोटे नाले भी अपना रौद्र रूप दिखा रहे हैं। स्कूली बच्चों और किसानों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ है। कोयलीबेड़ा में पानी निकासी के लिए बनी नालियों से किसी को भी मदद नहीं मिल रही है। लोगों के घरों में घुटनों तक पानी भर चुका है। पानी के चलते कई घरों में चूल्हे तक नहीं जल पाए हैं।

लोग आधी रात से ही घरों से पानी निकालने की जुगत में लगे हुए हैं। आफत की इस बारिश में लोगों में प्रशासन के खिलाफ गुस्सा भडक़ रहा है। हालांकि मौके पर पहुंचे पटवारी ने लोगों को वैकल्पिक व्यवस्था का भरोसा दिलाया है। नदी नाले उफान पर होने से ब्लाक मुख्यालय से करीब 40 गांवों का संपर्क टूट गया है। पटवारी के अलावा अन्य आला अधिकारी सूचना देने के बाद भी गांव तक नहीं पहुंच रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि देर रात बारिश होने से पहले तक कुछ राहत थी। आधी रात से लोगों के घरों में पानी घुसने लग गया। सुबह होते-होते हालात बेकाबू हो गया है।

निचले भाग में जलभराव अधिक होने के कारण लोगों को अपना-अपना घर छोडऩे के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि खपरैला के घर कुछ ढह गए हैं। अधिकांश घरों में सुबह से ही चूल्हा नहीं जल पाया है। बारिश अब भी थमने का नाम नहीं ले रही है। मूसलाधार बारिश से हालात खराब होते जा रहा है। नदी-नालों में पानी उफान पर बह रहा है। ऐसा हालत कोयलीबेड़ा में इस तरह पहली बार देखने को मिली है।

ग्रामीण केशलाल कौशल ने बताया कि कल से मूसलाधार बारिश शुरू हुई तो थमने का नाम नहीं ले रही है। कोयलीबेड़ा में निचले भाग में बारिश आफत बन गई है। घरों में पानी भर जाने के कारण लोगों को दूसरों का सहारा लेना पड़ रहा है।

ग्रामीण किनेश ने बताया कि दो दिनों से आफत की बारिश हो रही है। गांव से पानी निकासी के लिए जो नालियां बनी वह पूरी तहर से अनुपयोगी सिद्ध हो रही है। बारिश का पानी घरों में घूस जाने हालात बेकाबू हो गया है।

ग्रामीण मुकेश सहारे ने बताया कि आफत की ऐसी बारिश तो कभी हमने नहीं देखी थी। नदी नालों में उफान के बाद बारिश का पानी तो अब गांवों में तबा ही मचाने लगा है। देर रात से लोगों के घरों में पानी घूस जाने से संकट खड़ा हो गया है।

Chhattisgarh Weather की खबर यहां बस एक क्लिक में

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned