बेसहारा बच्चों को बाल संरक्षण इकाई ने उनकी दादी के किया सुपुर्द

सदर कोतवाली क्षेत्र के लुधपुरी मोहल्ला स्थित कांशीराम कॉलोनी में एक बार फिर से लोगों की इंसानियत पर सवाल खड़ा कर दिया है।

By: Abhishek Gupta

Published: 06 Apr 2021, 10:22 PM IST

कन्नौज. सदर कोतवाली क्षेत्र के लुधपुरी मोहल्ला स्थित कांशीराम कॉलोनी में एक बार फिर से लोगों की इंसानियत पर सवाल खड़ा कर दिया है। इस मोहल्ले में पिछले छह सालों से रहने वाले दंपति अपने बच्चों को अकेला छोड़ भाग गए हैं। फिलहाल बच्चों को बाल संरक्षण इकाई ने अपने संरक्षण में लेकर उनकी दादी को सुपुर्द कर दिया है।

बताते चले की कन्नौज सदर कोतवाली के मोहल्ला लुधपुरी में कानपुर जनपद के गबड़ाहा गांव निवासी आरिफ छह साल पहले अपनी पत्नी हिना के साथ लुधपुरी मोहल्ले में रहने आया था। आरिफ ऑटो चलाकर अपने परिवार का गुजारा करता था। उसके जीवन में सबकुछ सही चल रहा था। एक दिन उसकी पत्नी चार बच्चों को छोड़ कर अपने प्रेमी के साथ भाग गई। आरिफ ने अपनी पत्नी को खोजने की कोशिश की, लेकिन हिना का कुछ पता नहीं चला। परेशान होकर आरिफ भी अपने चारों बच्चों को अकेला छोड़ कर गायब हो गया कुछ दिन पड़ोसियों ने की देखभाल कुछ दिन तो मोहल्ले के लोगों ने बच्चों की देखभाल की, लेकिन आरिफ नहीं लौटा तो लोगों ने पुलिस को इस घटना की जानकारी दी।

इसके बाद मामला बाल संरक्षण इकाई के पास पहुंचा। बाल संरक्षण इकाई ने चारों बच्चों को अपने संरक्षण में ले लिया। काफी खोज बिन करने के बाद बाल संरक्षण इकाई को बच्चों के दादी के बारे में पता चला। कागजी कार्रवाई करने के बाद बाल संरक्षण की टीम ने चारों बच्चों को उनकी दादी को सुपुर्द कर दिया। बाल संरक्षण अधिकारी विजय कुमार राठौर ने बताया कि हर महीने बच्चों के बारे में जानकारी ली जाएग।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned