डीएम की अनोखी पहल, शौचालय के निर्माण में श्रमदान करके फैला रहे जागरूकता

Ashish Pandey

Publish: Oct, 13 2017 06:28:07 PM (IST) | Updated: Oct, 13 2017 06:47:46 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
डीएम की अनोखी पहल, शौचालय के निर्माण में श्रमदान करके फैला रहे जागरूकता

जिलाधिकारी ने बताया कि ग्रामीणों में जागरूकता लाने के लिए यह पहल की गयी है।

Kannauj. कन्नौज जिलाधिकारी जगदीश प्रसाद ने शौचालय निर्माण में जागरुकता लाने के लिए अनोखी पहल की। डीएम ने एक गांव पहुचकर वहां बन रहे शौचालय में खुद ही काम करना शुरू कर दिया। बाकायदा कन्नौज जिलाधिकारी ने फावड़ा लेकर शौचालय की नींव खोदी और राजमिस्त्री का काम भी किया। जिलाधिकारी ने बताया कि ग्रामीणों में जागरूकता लाने के लिए यह पहल की गयी है।

कन्नौज जिले को योगी सरकार ने दिसम्बर 2017 तक खुले में शौच से मुक्त करने का ऐलान किया है। सीएम के ऐलान के बाद कन्नौज जिला प्रशासन शौचालय निर्माण के लिए इन दिनों रात दिन एक किये हुए है। लेकिन कोशिशों के बाद भी ग्रामीणों में शौचालय निर्माण को लेकर कोई जागरूकता नही है। शौचालय निर्माण की हकीकत जानने के लिये निकले डीएम जलालाबाद के मतौली गांव पंहुचे। इस गांव में रामसेवक के शौचालय का निर्माण राज मिस्त्री के न आने से बंद चल रहा था फिर क्या इसकी जानकारी लगते ही डीएम राज मिस्त्री बन गये। करीब दो घण्टे तक डीएम ने दीवार की चिनाई की। लोगो में जागरूकता लाने के जिलाधिकारी ने श्रमदान किया, और गांव गांव जाकर पसीना बहाया।

इसके बाद वह मुख्य विकास अधिकारी अवधेश बहादुर सिंह के साथ अनौगी ग्राम पंचायत के मजरा उम्मेदपुरवा व अमृतपुर में शौचालय निर्माण की हकीकत देखने पहुंचे। साथ में शौचालय निर्माण शुरू कराने को लेकर खुद गड्ढा खोदा। इससे अफसर भी हैरत में पड़ गए। कहा कि सभी काम को बेहतर ढंग से करने की पहल करें ताकि स्वच्छता अभियान पूरा हो सके।

अमृतपुर में शौचालय की सीट व गेट आदि देखकर प्रधान प्रतिनिधि महेन्द्र सिंह बघेल को 31 दिसंबर तक हर हाल में ग्राम पंचायत को ओडीएफ बनाने की हिदायत दी। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि ओडीएफ का मतलब सिर्फ शौचालय निर्माण कराना नहीं बल्कि उसका इस्तेमाल भी किया जाए। इस दौरान जिलाधिकारी ने अमृतपुर में बनी सीमेंटेड रोड व नाली भी देखी। प्रधान के जरिए मंगाई गई निर्माण सामग्री देख उनके प्रतिनिधि की पीठ भी थपथपाई।

Ad Block is Banned