पूर्व मंत्री सतीश पाल ने खोला मायावती के खिलाफ मोर्चा

पूर्व मंत्री सतीश पाल ने खोला मायावती के खिलाफ मोर्चा
Mayawati

Shatrudhan Gupta | Updated: 24 Sep 2017, 10:37:09 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

नसीमुद्दीन सिद्दीकी, स्वामी प्रसाद मौर्य, इंद्रजीत सरोज के बाद अब बसपा सरकार में मंत्री रहे सतीश पाल ने मायावती के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कन्नौज. बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो और प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के खिलाफ उनके ही पार्टी के नेताओं का आक्रोश शांत होता नहीं दिख रहा है। यही कारण है कि ्रपार्टी के वरिष्ठ नेता मायावती का साथ छोड़कर उनके खिलाफ मोर्चा खोलने में जुटे हैं। नसीमुद्दीन सिद्दीकी, स्वामी प्रसाद मौर्य, इंद्रजीत सरोज के बाद अब बसपा सरकार में मंत्री रहे सतीश पाल ने मायावती के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पाल ने ऐलान किया है कि वह पूरे प्रदेश में अभियान चलाकर बसपा सुप्रीमो मायावती की पोल खोलेंगे। उन्होंने कहा कि वह पूरे उत्तर प्रदेश में रैलियां करेंगे और मायावती की करनी और कथनी जनता को बताएंगे। पूर्व मंत्री सतीश पाल ने मायावती पर आरोप लगाया कि बसपा सुप्रीमो बड़ी धनराशि लेकर चुनाव में टिकट बांटती हैं, जिसके पास पैसा नहीं, उसे टिकट भी नहीं। उन्होंने कहा कि मायावती की इसी नियत के कारण हम सत्ता विहिन हो गए और अब बसपा और पिछड़ती जा रही है।

बसपा सरकार में मंत्री रहे सतीश पाल ने बताया कि पोल खोल रैली की शुरुआत २६ सितंबर से कन्नौज से ही होगी। इसके लिए खडिऩी भाउलपुर इलाके में तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। मालूम हो कि सतीश पाल साल २००७ से २०१२ तक बसपा सरकार में राज्यमंत्री रहे। अब उन्होंने बसपा सुप्रीमो मायावती पर पैसे लेकर टिकट देने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। साथ ही पूर्व मंत्री ने अपनी ताकत दिखाने के लिए पाल समाज, पिछड़ा वर्ग व दलित वर्ग के लोगों के बीच जाने की पूरी तैयारी कर ली है।

पूर्व मंत्री सतीश पाल ने रविवार को बताया कि रैली में चुनाव लडऩे वाले नेताओं से टिकट के लिए रुपए वसूलने की पोल खोली जाएगी। उन्नाव, कानपुर नगर, फतेहपुर, इलाहाबाद से लेकर बाकी जिलों में बिना रुपए लिए एक भी पिछड़े व दलित को बसपा द्वारा विधानसभा टिकट नहीं दिए गए। उन्होंने कहा कि इस रैली में सच्चाई सबके सामने लाई जाएगी। इसके बाद हर जिले में तीन माह के अंतराल में लगातार जिला स्तरीय रैली कर पोल खोल अभियान चलेगा। मालूम हो कि सतीश पाल से पहले मायातवी के खासमखास व दाहिने हाथ माने जाने वाले नसीमुद्दीन सिद्दीकी, स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई पार्टी नेताओं ने बसपा सुप्रीमो पर पैसा लेकर टिकट देने का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ दी थी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned