रामलीला विवाद: पुलिस की टूटी नींद, अब राम लीला अनुमति पर निगाह, भेजा जाएगा नोटिस

रामलीला विवाद: पुलिस की टूटी नींद, अब राम लीला अनुमति पर निगाह, भेजा जाएगा नोटिस
ramlila

Shatrudhan Gupta | Updated: 19 Nov 2017, 11:09:53 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

मामूली विवाद के चलते एक युवक को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया, जबकि दूसरा युवक गोली लगने से घायल हो गया था।

कन्नौज. अटारा गांव में प्रशासन से अनुमति लिए बिना ही रामलीला का आयोजन कराया जा रहा था। यही वजह है की सैकड़ों की भीड़ ग्राउंड ग्राउंड में जुटने के बावजूद सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे, जिस कारण मामूली विवाद के चलते एक युवक को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया, जबकि दूसरा युवक गोली लगने से घायल हो गया था। अब पुलिस आयोजकों का पता लगाकर कार्रवाई करने की बात कह रही है।

धर्मसिंह की मौके पर ही मौत

मालूम हो कि किसी भी धार्मिक या सामाजिक आयोजन कराने से पहले पुलिस और प्रशासन की अनुमति लेना अनिवार्य है। परमीशन लेना इसलिए भी जरूरी है, ताकि भीड़ जुटने वाली जगह पर सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराई जा सके, लेकिन अटारा गांव में बिना किसी परमीशन के राम लीला का आयोजन कराया जा रहा था। यहां राम लीला में सैकड़ों की संख्या में महिलाएं और पुरषों की भीड़ जुटती थी। ऐसे में ग्रामीणों की सुरक्षा के कोई इंतजाम भी नहीं हुए। यही वजह है कि मामूली विवाद के चलते सिमरापुर के शेरसिंह, विनोद और मंजेश ने अटारा गांव के धर्मसिंह पर तमंचे से फायरिंग कर दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। जबकि उसी गांव के प्यारे लाल गोली लगने से घायल हो गया।

आयोजकों को नोटिस भेजा जाएगा

इस घटना को अंजाम देने के बाद शेरसिंह और विनोद भाग निकलेे। हालांकि, भीड़ ने मंजेश को पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया था। घटना घटित होने के बाद पुलिस की नींद टूटी और फिर राम लीला की लिखित अनुमति मांगी, लेकिन आयोजन समिति कोई भी अनुमति नहीं दिखा सका। इससे पहले कि पुलिस कुछ और पूछताछ करती, तब तक आयोजक भी धीरे-धीरे खिसक गए। कोतवाली प्रभारी अजय कुमार सिंह की मानें तो बिना परमीशन ही रामलीला का आयोजन चल रहा था। अब आयोजकों को नोटिस भेजकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

जलालपुर चौकी पुलिस की खुली कलई

अटारा गांव सदर कोतवाली की जलालपुर चौकी क्षेत्र में पड़ता है, लेकिन यहां पिछले तीन-चार दिनों से चल रही रामलीला के आयोजन की चौकी पुलिस को भनक तक नहीं थी। यही वजह है कि न तो चौकी पुलिस ने विभाग के उच्चाधिकारियों को कोई सूचना की और न ही खुद मौके पर पहुंच कर आयोजन की अनुमति मिलने या न मिलने की पड़ताल की। रामलीला ग्राउंड में गोली मारकर युवक की हत्या किए जाने की घटना के बाद चौकी पुलिस की लापरवाही खुलकर सामने आ गई। अब पुलिस कार्रवाई की बात कर रही है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned