राशिद की मौत की गुत्थी सुलझाने के मामले में पुलिस ने उठाए कई संदिग्ध, सीडीआर का भी लेगी सहारा

राशिद की मौत की गुत्थी सुलझाने के मामले में पुलिस ने उठाए कई संदिग्ध, सीडीआर का भी लेगी सहारा
kannauj Crime

Shatrudhan Gupta | Updated: 15 Oct 2017, 09:51:02 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

कन्नौज सदर कोतवाली क्षेत्र निवासी राशिद की मौत की गुत्थी सुलझाने के मामले में पुलिस ने कई संदिग्ध उठाए हैं।

कन्नौज. कन्नौज सदर कोतवाली क्षेत्र निवासी राशिद की मौत की गुत्थी सुलझाने के मामले में पुलिस ने कई संदिग्ध उठाए हैं। इनसे कड़ाई से पूछताछ की जा रही है। इसी के साथ मौत का राज जानने के लिए पुलिस सीडीआर भी खंगालेगी। राशिद की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी सांस घुटने से मौत की बात सामने आई है। इससे पुलिस की चुनौती बढ़ गई है।

कन्नौज सदर कोतवाली पुलिस ने दिव्यांग कारोबारी राशिद का शव वारसी कांप्लेक्स में लटका मिलने के मामले में शनिवार की रात फर्रुखाबाद के एक युवक को हिरासत में लिया है। उससे सीओ लक्ष्मी कांत गौतम व कोतवाली प्रभारी एके सिंह ने बंद कमरे में घंटों पूछताछ की है। इसके साथ ससुराल वालों से भी पूछताछ हो रही है। वरिष्ठ उप निरीक्षक गौरीशंकर वर्मा ने मृतक दिव्यांग कारोबारी के फोन की सीडीआर की जांच की।

पुलिस हर पहलू को ध्यान में रखकर जांच कर रही है। इससे सच जल्द सामने आ सकेगा। हालांकि पुलिस ने इस मामले में अभी कुछ भी बताने से इन्कार किया है। प्रभारी निरीक्षक एके सिंह ने बताया कि जल्द घटना का पर्दाफाश होगा। हम आपको बताते चले कि 11 अक्टूबर को मीरा टोला निवासी स्वर्गीय अब्दुल वारसी के बेटे पच्चीस वर्षीय राशिद का लाखन तिराहे स्थित वारसी कांप्लेक्स में संदिग्ध हालातों में शव गिफ्ट शॉप के अंदर मिला था।

मौत का राज जानने के लिए सीडीआर भी खंगालने में जुटी पुलिस

चार दिन पहले मीरा टोला निवासी राशिद का लाखन तिराहे स्थित वारसी कॉम्पलेक्स में संदिग्ध परिस्थितियों में शव मिला था। मृतक के समीप इंजेक्शन समेत अन्य संदिग्ध चीजें बरामद हुई थीं। प्रभारी निरीक्षक एके सिंह की माने तो घटनास्थल पर मिली चीजों को लखनऊ लैब भेजा गया है। जल्द रिपोर्ट आ जाएगी। साथ में मृतक दिव्यांग की कॉल डिटेल जानने के लिए सीडीआर निकलवाई जा रही है।

इसमें यह पता चल जाएगा कि मृतक कब और कितनी देर किससे बात करता था। उससे दिव्यांग का क्या संबंध था। घटना से पहले उससे किसकी बात हुई थी या कोई मैसेज आया था। इन सभी बदुओं पर जांच के बाद सच्चाई सामने आ जाएगी। उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई होगी। इससे पहले भी पुलिस ने घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज भी बारीकी से खंगाले हैं लेकिन कोई सुराग नहीं मिला है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned