विशेष सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी ने देखी हकीकत, खंगाले रजिस्टर

विशेष सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी ने देखी हकीकत, खंगाले रजिस्टर
Special Secretary Science and Technology Nidhi Kesaravani

Shatrudhan Gupta | Updated: 23 Sep 2017, 11:04:52 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

निधि केसरवानी द्वारा गांव-गांव जाकर यह देखा गया कि गांव में किए जा रहे विकास कार्यक्रमों का क्या सत्यापन किया गया है।

कन्नौज. विशेष सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी निधि केसरवानी ने शनिवार को कन्नौज जिले का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कई खामियां पाईं, जिसकी जांच के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि अभी समीक्षा बैठक होगी, जिसमें जनपद की कोई भी समस्या है, उसको शासन को अवगत कराएंगे। इसी बीच उन्होंने सदर कोतवाली का भी औचक निरीक्षण किया। यहां परिसर से लेकर बाकी जगहों पर बारीकी से नजर दौड़ाई। इस दौरान जल निगम में फैली अव्यवस्था समेत अन्य सवालों को वह टाल गईं। मासिक दौरा के तहत किए जा रहे निरीक्षण के दौरान जनपद कन्नौज में विशेष सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी निधि केसरवानी द्वारा गांव-गांव जाकर यह देखा गया कि गांव में किए जा रहे विकास कार्यक्रमों का क्या सत्यापन किया गया है और वहां की व्यवस्थाएं क्या है? इसके अलावा पेयजल व्यवस्था और सड़क का भी निरीक्षण किया गया। वहीं सड़क के निरीक्षण के दौरान जसोदा से जसपुरा मार्ग की सड़क में कई खामियां मिलीं, जिसकी गुणवत्ता की जांच के निर्देश दिए गए। साथ ही साथ ही साथ स्कूल में मिड्ड-डे-मिल में भी गड़बड़ी मिली और गांव में अभी तक सड़कें तक नही बन सकीं।

कई गांव का निरीक्षण करने के बाद विशेष सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी निधि केसरवानी सदर कोतवाली पहुंचीं, यहां उन्होंने सबसे पहले कार्यालय पहुंच कर यहां फाइलों का रखरखाव देखा। मेस व मालखाने की स्थिति परखी। सफाई व्यवस्था देख जमकर तारीफ की। मालखाने में पुरानी चीजों का निस्तारण करने को कहा। कोतवाली परिसर में बन रहे आगंतुक कक्ष का जल्द निर्माण कराने को कहा। इसके बाद उन्होंने कंप्यूटर कक्ष का निरीक्षण कर ऑनलाइन दर्ज की जाने वाली शिकायतों की जानकारी ली। इसके बाद कार्यालय में अपराध, गुंडा एक्ट, संगीन अपराध, समाधान दिवस, तहसील दिवस समेत कई रजिस्टरों को देखा। इस मौके पर जिलाधिकारी जगदीश प्रसाद, सीडीओ अवधेश बहादुर, एएसपी केशव गोस्वामी, एसडीएम डॉ. अरुण सिंह, प्रभारी निरीक्षक एके सिंह समेत कई अफसर मौजूद रहे। विशेष सचिव के निरीक्षण के बाद पत्रकारों ने जल निगम में अधिशासी अभियंता के पांच माह में छह स्थानांतरण व अव्यवस्था पर सवाल दागे तो वह चुप्पी साध गईं। उनसे एक बार जल निगम कार्यालय का हाल देखने की गुजारिश की गई तो वह टाल गईं। सिर्फ इतना कहा कि जिलाधिकारी से समस्याओं का निस्तारण कराएं। इसके साथ सड़क की गुणवत्ता व पेयजल योजनाओं के बेहतर ढंग से क्रियान्वयन के निर्देश दिए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned