प्रॉपर्टी की खरीददारी करने जा रहे हैं? तो हो जाइये सावधान, आपके साथ ऐसे हो सकती है ठगी

प्रॉपर्टी की खरीददारी करने जा रहे हैं? तो हो जाइये सावधान, आपके साथ ऐसे हो सकती है ठगी
Fraud

Abhishek Gupta | Updated: 08 Jul 2017, 09:53:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

 कन्नौज में एक ऐसा चौंकाने वाला मामला सामने आया है जिसे जानकर प्रॉपर्टी को गिरवी रखने वाला एवं प्रापर्टी को कम कीमत में पाने का लालच रखने वाला हर शख्स चौकन्ना हो जाएगा।

कन्नौज.  कन्नौज में एक ऐसा चौंकाने वाला मामला सामने आया है जिसे जानकर प्रॉपर्टी को गिरवी रखने वाला एवं प्रापर्टी को कम कीमत में पाने का लालच रखने वाला हर शख्स चौकन्ना हो जाएगा। दरअसल फर्जी आईडी प्रूफ तैयार कर पड़ोसी का खेत शर्तिया बैनामा करने का एक मामला संज्ञान में आने से लोगों के बीच में हड़कंप कट गया। आइये जानते है क्या है पूरा मामला।  

कन्नौज के तिर्वा कोतवाली क्षेत्र के हरीपुर्वा गांव निवासी रानी देवी की माने तो इंदरगढ़ थाना क्षेत्र में रहने वाले भजनलाल ने तीन फरवरी 2016 को करीब दो बीघा खेत का शर्तिया बैनामा सर्वेश कुमार बनकर कर दिया। दरअसल भजनलाल ने गांव के सर्वेश कुमार के नाम से फर्जी आईडी प्रूफ बनवा लिया और उसके बाद दो लाख 20 हजार में खेत का शर्तिया बैनामा कर दिया। 
भजनलाल ने एक वर्ष में दो लाख 96 हजार रुपए वापस करने का वादा किया था और रुपया वापस न करने पर कब्जा देने की रजिस्ट्री कर दी थी। एक वर्ष से अधिक का समय बीतने के बाद भी जब भजनलाल ने रुपया वापस नहीं किया तो रानी देवी शर्त के हिसाब से खेत पर कब्जा लेने के लिए पहुंच गई। वहां पर जब असली सर्वेश कुमार का सामना रानी देवी से हुआ तो सर्वेश कुमार से उसकी कहासुनी हो गई।

जिसके बाद गाँव के कुछ लोगों के बीच में पड़ने के बाद आपसी वार्ता होने पर मामले का पूरा खुलासा हो गया। इसके बाद पीड़िता रानी देवी ने आरोपी भजनलाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस की माने तो मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है और दोषी पर कार्रवाई की जाएगी।

इन बातों का रखे ध्यान 

किसी भी प्रॉपर्टी को गिरवी रखने एवं खरीदने से पहले इन बातों पर विशेष ध्यान दें, जिससे आप धोखाधड़ी के शिकार होने से बच सकते हैं-  

- प्रापर्टी के सभी कागजात सम्बंधित तहसील में जाकर चेक कराएं
- प्रापर्टी पर लोन तो नहीं है इसकी जानकारी भी किसी वकील द्वारा लें 
- प्रापर्टी  का बारहशाला कराकर चेक कर लें कि पुश्ते  दर पुश्ते प्रापर्टी किस के नाम चली आ रही है। प्रापर्टी  के मालिक की आईडी प्रूफ की जांच करा लें।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned