आईआईटी में कई बार फेल हुए 136 छात्र-छात्राओं को किया गया टर्मिनेट

आईआईटी में कई बार फेल हुए 136 छात्र-छात्राएं सोमवार को टर्मिनेट कर दिए गए. इंस्‍टीट्यूट के सीनेटने इसपर मुहर लगा दी है. सीनेट की बैठक में अलग-अलग ब्रांच और वर्ष के करीब 150 छात्रों का मामला रखा गया था. अलग-अलग छात्रों पर घंटों चर्चा के बाद 136 छात्रों को टर्मिनेट किया गया. इनमें से 46 छात्र स्‍नातक के हैं.

कानपुर। आईआईटी में कई बार फेल हुए 136 छात्र-छात्राएं सोमवार को टर्मिनेट कर दिए गए. इंस्‍टीट्यूट के सीनेटने इसपर मुहर लगा दी है. सीनेट की बैठक में अलग-अलग ब्रांच और वर्ष के करीब 150 छात्रों का मामला रखा गया था. अलग-अलग छात्रों पर घंटों चर्चा के बाद 136 छात्रों को टर्मिनेट किया गया. इनमें से 46 छात्र स्‍नातक के हैं. वहीं 90 परास्‍नातक और पीएचडी के छात्र शामिल हैं. अब इन छात्रों को अपनी बात को रखने के लिए सप्‍ताह भर का समय दिया जाएगा. इसके बाद इस मामले में 31 दिसंबर को अंतिम फैसला होगा. सीनेट में अकादमिक विषय से जुड़े कई मामलों पर भी चर्चा हुई.

बढ़ाई गई पीएचडी की दस सीटें
सीनेट में कंप्‍यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग विभाग और केमिकल इंजीनियरिंग विभाग में पीएचडी की सीटें बढ़ाने का भी प्रस्‍ताव रखा गया. इसको सभी ने स्‍वीकार भी कर लिया. सीट बढ़ोतरी का फायदा इसी सत्र के छात्रों को मिलेगा. इंस्‍टीट्यूट प्रशासन ने ये भी फैसला लिया कि अगले सत्र में एमटेक और पीएचडी की सीटों में और बढोतरी की जाएगी. ताकि एडमिशन लेने के इच्‍छुक लोगों को सहूलियत मिल सके.

स्‍कॉलरशिप के इंटरव्‍यू में चार को मिला जीरो
सीनेट के एजेंडे में कंप्‍यूटर साइंस के चार छात्रों का मामला रखा गया. इन छात्रों को आदित्‍य बिड़ला स्‍कॉलरशिप के लिए चुना गया था और फाइनल चुनाव के लिए इंटरव्‍यू देना था. इसी बीच मिड सेमेस्‍टर की परीक्षाएं शुरू हो गई थीं. छात्रों का इस बारे में कहना है कि उन्‍होंने अपने प्रोफेसर से छुट्टी मांगी थी. एक प्रोफेसर ने छोड़कर बाकी सभी ने छुट्टी दे दी थी. छात्र शामिल होने चले गए तो एक प्रोफेसर ने सभी की परीक्षा में जीरो दे दिया. अन्‍य प्रोफेसरों ने छात्रों की परीक्षा बाद में कराई. इस मामले पर सोमवार को चर्चा होनी थी, लेकिन नहीं हो पाई.

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned