आर्थिक तंगी ने छीनी पढ़ाई तो फांसी में झूली छात्रा, प्रियंका ने ट्वीट कर सीएम योगी पर निशाना साधा

छात्रा बनना चाहती थी डाॅक्टर, पर दसवीं की परीक्षा पास करने के बाद पिता ने छुड़वा दी थी पढ़ाई, इसी से आहत होकर फांसी के फंदे पर झूल गई बिटिया।

By: Vinod Nigam

Published: 06 Jan 2020, 10:58 AM IST

कानपुर। नौबस्ता थानाक्षेत्र स्थित आर्थिेक तंगी के कारण उसके परिजनों ने बीच में ही पढ़ाई रूकवा दी। जिससे क्षुब्ध होकर छात्रा ने फांसी लगाकर जान दे दी। मामले की जानकारी होने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्यूट के जरिए शिक्षा जैसे मुद्दे पर ध्यान नहीं देने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा।घटना का हवाला देते हुए प्रियंका ने कहा, भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश सरकार इस प्रकार के मुद्दे पर ध्यान नहीं दे रही है। बच्चियों को शिक्षा न मिलने के कारण सुसाइड को मजबूर होना पड़ रहा है।

सिर्फ फूट डालने में व्यस्त

प्रियंका गांधी ने ट्यूट के जरिए प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला करते हुए लिखा कि, आर्थिक तंगी से जूझ रही महिमा पढ़ाई नहीं कर पाई तो उसने अपनी जान दे दी। भाजपा सरकार का ध्यान ऐसे किसी मुद्दे पर नहीं जाता है। हम सब को यह संकल्प लेना चाहिए कि हर महिमा की शिक्षा और सुरक्षा के हक को कायम करेंगे। प्रियंका ने ट्यूट के जरिए कहा कि राजनीति का मकसद जनता के मुद्दों को प्राथमिकता देने का है. शिक्षा, रोजगार, किसानों की मदद। लेकिन यह गैरजिम्मेदार सरकार सिर्फ फूट डालने में व्यस्त रहती है।

हर संभव मदद का आश्वासन
प्रियंका के ट्यूट के बाद कांग्रेस के नेता भी एक्शन में आते हुए मृतका के घर जाकर उसके परिजनों से मिले और सरकार व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए छात्रा के परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। मामले पर कांग्रेस महिला नेता करिश्मा ठाकुर ने कहा कि प्रदेश की योगी सरकार हर मुद्दे पर फेल साबित हुई है। महिला, बच्चियां और युवतियां असुरक्षित हैं। उन्नाव, फतेहपुर में दुष्कर्म पीड़िताओं को ंिजदा जला दिया गया तो सीएए को लेकर प्रदेश में कई लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ी।

10 वीं क्लास के बाद छुड़वा दी पढ़ाई
मृतका के पिता बसंत सक्सेना ई रिक्शा चलाते हैं। उनके चार बेटियां हैं। जिनमें दो की शादी हो चुकी है। जबकि मां घरो में काम करके घर का खर्चा चलाती है। महिमा दसवीं पास थी लेकिन आर्थिक तंगी के चलते पिता ने उसका दाखिला 11वीं क्लास में नहीं कराया। आगे की पढ़ाई नहीं कर पाने से छात्रा खासी परेशान रहती थी। छात्रा के माता-पिता का कहना है की आर्थिक परेशानियों के चलते महिमा के पढ़ाई छुड़वाई थी, जिससे वह बहुत परेशान रहती थी। महिमा पढ़ लिखकर डाॅक्टर बनने का सपना पाले थी पर ऐसा हो नहीं पाया।

मां के साथ करती थी मजदूरी
पिता ने बताया कि चार‘चार बेटिया हैं। घर का किराया ही ढाई हजार देना पड़ता है।ऐसे में महिमा भी पढ़ाई छोड़कर मां के साथ काम करने जाती थी। उसने सुसाइड क्यों किया इसका तो पता नहीं है लेकिन हम लोग पैसे से परेशान थे। मृतका की मां का आरोप है कि उन्हें आज तक एक भी सरकारी योजनाओं का लाथ नहीं मिला। पीएम आवास के लिए आवेदन किया पर लिस्ट में नाम नहीं आया। बेटी को स्काॅलरशिप कभी नहीं मिली। मेरी लाडो का सपना टूट चुका था और वह अक्सर रोया करती थी। इन्हीं परेशानियों के कारण उसने फांसी लगा ली।

पुलिस कर रही जांच
छात्रा की मौत के बाद जब प्रियंका गांधी का ट्यूट आया तो जिले पुलिस जागी और सर्फ वाट्सअप पर छात्रा के सुसाइड करने का बयान जारी कर खानापूर्ति दिया। शाम को एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता सामनें आई और मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि छात्रा के पिता रिक्शा चलाते हैं। चार बेटियां हैं। उनके उनकी तीसरे नंबर की बेटी के सुसाइड की सूचना मिली थी। पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच-पड़ताल कर रही है।

Bharatiya Janata Party
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned