फूड पॉयजनिंग से 2 बच्चियों की मौत, 2 हॉस्पिटल में एडमिट

डॉक्टरों के मुताबिक, फूड पॉयजनिंग की वजह से दोनों बच्चियों की मौत हुई है। वहीं अस्पताल में भर्ती अन्य दो बच्चियां अब खतरे से बाहर हैं

By: Hariom Dwivedi

Published: 29 Apr 2016, 06:27 PM IST

कानपुर. नौबस्ता थाना क्षेत्र में गुरुवार के बासी खाना खाने से एक ही परिवार की दो बच्चियों की मौत हो गई वहीं, दो बच्चियां बीमार हैं, जिनका इलाज चल रहा है। बच्चियों की मौत के बाद परिवार में मातम फैल गया। डॉक्टरों का कहना है कि बच्चियों की मौत फूड पॉयजनिंग की वजह से हुई है।

नौबस्ता थाना क्षेत्र के बाबा नगर में रहने वाले बसंतु चौरसिया अंडे की दुकान लगाकर अपने परिवार चलाते हैं। परिवार में पत्नी किरण व चार बेटियां हैंl बड़ी बेटी दीपाली (09), मझली बेटी ख़ुशी (05), ईशा (04) और सबसे छोटी बेटी माही (2) है। जानकारी के मुताबिक,  बुधवार शाम को किरण ने अरहर की दाल, चावल और भिन्डी की सब्जी थी। परिजनों के मुताबिक, गुरुवार को ख़ुशी और माही ने दाल चावल और भिन्डी खाया था और खाने के बाद से ही दोनों को उल्टियां और दस्त शुरू हो गईं।

तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया
किरण ने बताया कि जब दोनों बेटियों को उल्टियां और दस्त शुरू हुई तो फ़ौरन पति के साथ पास के ही निशु अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान ही दोनों ने देर शाम दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि सभी लोग अस्पताल में थे, इसी बीच दीपाली व ईशा ने भी दाल चावल खा लिया और इनकी भी तबियत बिगड़ गई। दीपाली और ईशा को भी फ़ौरन अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उनका इलाज चल रहा है। 

बच्चियों के पिता ने बताया कि शुक्रवार को सुबह ही दोनों बच्चियों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। दीपाली और ईशा का इलाज चल रहा है और अब वे खतरे से बाहर हैं।

डॉक्टरों ने कहा
अस्पताल के डॉक्टरों के मुताबिक, जब यह बच्चियां अस्पताल आई थीं, तो यह डिहाइड्रेट थीं। फूड पॉयजनिंग की वजह से इनकी मौत हुई है। वहीं अस्पताल में भर्ती अन्य दो बच्चियां अब खतरे से बाहर हैं।
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned