आयोग में पद दिलाने के नाम पर भाजपा नेत्री से 25 लाख ठगे, पैसे मांगे ताे तान दिया तमंचा

मेरठ की रहने वाली एक भाजपा नेत्री से 25 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। आरोपी कानपुर का रहने वाला है। पद नहीं मिला ताे पीड़िता अपने पति के साथ आरोपी के घर पहुंची जहां ठग के गुर्गो ने महिला और उसके पति पर तमंचा तान दिया।

By: shivmani tyagi

Updated: 24 Jul 2021, 11:16 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क,

कानपुर. ( Kanpur) अभी तक आपने लोन और नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी की घटनाएं सुनी होंगी। बीजेपी संगठन में बड़ा पद दिलाने के नाम पर एक महिला नेत्री ( bjp leader ) से ठगी कर लिए जाने की घटना सामने आई है। आरोपों के अनुसार ठगी करने वाले ने खुद काे संघ में राष्ट्रीय स्तर का पदाधिकारी बताया और भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य से 25 लाख ले लिए। आरोपों के अनुसार ठगी करने वाला पहले भी राम मंदिर निर्माण से लेकर सरकारी पदों में नौकरी लगवाने और कई भाजपा नेताओं से भी पद दिलाने के नाम पर ठगी कर चुका है।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी का रविवार को अयोध्या दौरा, रामलला जन्मस्थली पर सिर्फ तीन घंटे रहेंगे

भाजपा महिला मोर्चा की जिस प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य से ठगी हुई है वह मूलरूप से मेरठ के शास्त्री नगर की रहने वाली हैं। पीड़िता के अनुसार उनकी एफआईआर तक पुलिस दर्ज नहीं कर रही। यह बातें उन्हाेंने कानपुर में एक प्रेस कांफ्रेस करके कही। बताया कि संचेडी के इटारा में रहने वाले युवक ने अपना नाम आशीष पारस बताया जबकि उसका असली नाम कुछ और है। उसने खुद को आरएसएस का राष्ट्रीय स्तर का पदाधिकारी और प्रचारक भी बताया।

ऐसे ठग लिए 25 लाख

पीड़िता ने बताया कि आरोपी ने उन्हे आयोग में चेयरमैन का पद दिलाने का झांसा दिया। इसके एवज में 25 लाख रुपये ले लिए। काफी समय बीत जाने के बाद भी जब पद नहीं मिला तो युवक के बारे में जानकारी की। बाद में पता चला कि आरोपी बड़ा जालसाज है। पूर्व ममें भी कई भाजपा नेताओं के साथ ठगी कर चुका है। सभी को अपना नाम अलग-अलग बताता है।

पैसे मांगे ताे तान दिया तमंचा

पीड़त महिला ने बताया कि उन्हाेंने किसी तरह आरोपी के घर का पता कर लिया और उसके घर पहुंच गए। आरोप है कि घर पर गुर्गों ने पीड़िता और उनके पति पर तमंचा तान दिया। इतना ही नहीं शिकायत करने पर पुलिस ने आरोपी काे तमंचे का साथ ही दबोच लिया। आराेप है कि इसके अगले ही दिन पुलिस ने आरोपी काे छोड़ दिया। पीड़िता के अनुसार उन्हाेंने अब इस पूरे मामे की शिकायत डीजीपी और मुख्यमंत्री से की है लेकिन अभी तक उनकी एफआईआर दर्ज नहीं हाे पाई है।

यह भी पढ़ें: IIT-K ने एंटी-ड्रोन तकनीकों के समाधान खोजने के लिए इनोवेशन हब किया लॉन्च

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की तबीयत में कोई सुधार नहीं, समर्थक चिंतित

bjp leader
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned