फिल्मी अंदाज में नीली बत्ती गाड़ी से फर्जी आईपीएस पहुंचा कोतवाली, फिर इस तरह असली आईपीएस ने खोलकर रख दी पोल

Arvind Kumar Verma

Publish: Jun, 27 2019 01:28:10 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-कानपुर देहात में फर्जीवाड़े का एक ऐसा मामला सामने आया, जिसने पूरे पुलिस विभाग को चौकन्ना कर दिया। दरअसल नीली बत्ती लगी ईको स्पोर्ट गाड़ी में एक आईपीएस अफसर जिले के अकबरपुर कोतवाली पहुंच गया। हालांकि कोतवाल ने आईपीएस अफसर समझकर उसकी खातिरदारी की लेकिन संदेह होने पर सूचना पर पुलिस के आला अफसर पहुंचे तो पूरा मामला खुलकर सामने आ गया। फिर असली पुलिस के सामने नकली पुलिस का भंडा फूट गया। वो खुद को दिल्ली का डीएसपी बताकर यहां एक रिश्तेदार से मिलने आने की बात कह रहा था। फिलहाल एसपी के आदेश पर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं आरोपित की कार को भी कब्जे में लिया गया है।

 

एक फर्जी आईपीएस की यह घटना कानपुर देहात की अकबरपुर कोतवाली की है। जब अचानक अकबरपुर कोतवाली में एक नीली बत्ती लगी कानपुर नंबर की ईको स्पोर्ट आकर खड़ी हो गयी। एक बार नीली बत्ती कार देख सभी पुलिसकर्मी हरकत में तो आ गए लेकिन काफी देर तक कार से किसी के न उतरने पर पुलिस कर्मियों ने अनदेखा कर दिया। कुछ देर बाद कोतवाली पहुंचे कोतवाल ऋषिकांत शुक्ल ने नीली बत्ती लगी कार देखी तो वह रुरवाहार चौकी प्रभारी अमित शुक्ला व कोतवाली एसएसआई दिनेश कुमार यादव के साथ गाड़ी के समीप पहुंचे और कार के अंदर वर्दी पहने बैठे अफसर को सैल्यूट किया। इसके बाद कार्यालय में ले जाकर चाय-नाश्ता कराया। इस बीच युवक ने अपना नाम प्रशांत शुक्ला पुत्र अमरनाथ शुक्ला निवासी अमरविला, केशवपुरम, आवास विकास कानपुर बताया।

 

उसने बताया कि वह 2012 बैच का आइपीएस है और दिल्ली में डीसीपी के पद पर तैनात है। अपने एक रिश्तेदार से मुलाकात करने यहां आया है। चाय नाश्ते के बाद वह फिर से कार में बैठ गया। इस दौरान संदेह होने पर कोतवाल ने एसपी अनुराग वत्स, एएसपी अनूप कुमार और सीओ अर्पित कपूर को मामले की जानकारी दी। कुछ देर बाद ही एसपी व एएसपी कोतवाली पहुंचे और युवक से पूंछतांछ की तो फर्जीवाड़ा सामने आ गया। तत्काल एसपी के निर्देश पर फर्जी आइपीएस गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं उससे मिलने पहुंचे डेरापुर क्षेत्र के एक गांव निवासी रिश्तेदार को भी हिरासत में ले लिया। कोतवाल ने बताया कि युवक के पास से बार काउंसिल ऑफ यूपी व नेशनल ह्यूमन राइट ऑफ इंडिया का पहचान पत्र मिला है। कपटपूर्ण आशय से लोकसेवक की ड्रेस पहनने और धोखाधड़ी करने का मुकदमा दर्ज किया गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned