Panchayat Election Result: मजदूर ने किया चैलेंज स्वीकार, पत्नी लड़ी चुनाव और बन गई बीडीसी

ग्रामीणों के सहयोग से उसने जमकर मेहनत की। जिसके बाद बीडीसी पद पर चुनाव लड़कर उसने जीत दर्ज कर दिखा दिया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 03 May 2021, 10:46 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. कहते हैं स्वाभिमान सभी को प्यारा होता है। जब स्वाभिमान पर बात आती है तो इंसान हर संभव कोशिश करता है। ऐसा ही कुछ कानपुर के बिधनू ब्लॉक के एक गांव में पंचायत चुनाव (Panchayat Election) में देखने को मिला। जहां एक बीडीसी (BDC Election) प्रत्याशी ने एक मजदूर को चुनाव की चुनौती दी और कहा कि चुनाव लड़कर देख लो दो वोट भी नहीं मिलेंगे। बस इतनी सी बात पर मजदूर ने सब कामकाज छोड़कर चुनाव लडने की ठान ली। ग्रामीणों के सहयोग से उसने जमकर मेहनत की। जिसके बाद बीडीसी पद पर चुनाव लड़कर उसने जीत दर्ज कर दिखा दिया। वहीं रविवार 2 मई को आए चुनाव परिणाम में उसकी जीत होने पर उसके खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। वहीं चुनौती देने वाले चित नजर आए।

हरबसपुर गांव में रहने वाले मूलचंद्र पासी ने बताया कि वह मजदूरी कर परिवार चलाते हैं और एक झोपड़ी में पत्नी सरोजनी के साथ रहते हैं। दो वक्त की रोटी के लिए रोज सुबह निकल जाते हैं और रात को राशन लेकर लौटने पर पूरे परिवार के साथ पेट भरते हैं। बताया कि उन्हें चुनाव के बारे में कोई जानकारी नहीं थी और न ही कभी पत्नी को चुनाव लड़ाने के बारे में सोचा था। एक दिन बीडीसी का चुनाव लड़ रहे सोनू पासी ने उन्हें चुनौती देते हुए कहा कि अगर चुनाव लड़ जाओ तो दो वोट भी नहीं मिलेंगे। उनकी इस चुनौती को उस वक्त स्वीकार तो कर लिया, लेकिन कोई जानकारी न होने से परेशान भी था।

इस बीच गांव के कुछ लोगों ने उनका हौसला बढ़ाया। इस पर कामकाज छोड़कर चुनाव की तैयारी में जुट गए। महिला सीट होने पर पत्नी को बीडीसी पद का प्रत्याशी बनाया। रविवार को परिणाम घोषित हुए तो पता चला कि उनकी मेहनत रंग लाई और सरोजनी ने 452 वोट पाकर प्रतिद्वंद्वियों का मुंह बंद कर दिया। वहीं चुनौती देने वाले सोनू को 297 वोट ही मिले। फिलहाल मूलचंद्र की इस जीत से सभी की बोलती बंद हो गई।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned