हैवानियत भरे मारपीट के वायरल वीडियो पर हुई कार्यवाही, दबंग ठेकेदारों ने बंधक बना किया था ये काम

पुलिस ने दबंग ठेकेदारों के खिलाफ गम्भीर धाराओं में बिना देर किए मुकदमा दर्ज किया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 15 Sep 2020, 08:13 PM IST

कानपुर देहात-जनपद के रसूलाबाद क्षेत्र में दो ठेकेदारों की हैवानियत का वीडियो वायरल होने पर एसपी के निर्देश पर दोनों पर कार्यवाही की गई है। दरअसल चोरी के शक में दबंग ठेकेदारों द्वारा 3 कर्मचारियों की बेरहमी से की गई थी, जिसका वीडियो वायरल हुआ था। पिटाई के प्रकरण में कानपुर देहात के रसूलाबाद के पुलिस उपाधीक्षक व पुलिस की सक्रियता से दोनों ठेकेदार पकड़े गए। जिनके खिलाफ पुलिस द्वारा कार्रवाई की गई है।

रसूलाबाद थाने में दर्ज मुकदमे में वादी राजेन्द्र पुत्र मेवालाल निवासी कसमडा ने आरोप लगाते हुए कहा कि तरौली स्थित शक्ति इंटर प्राइजेज के ठेकेदार अभिषेक व उपेंद्र ने मेरे पुत्र मोहित व अनिल कुमार उर्फ गुड्डू व श्रीपाल पर प्लांट से सीमेंट बालू व बैटरी चुराने का झूठा आरोप लगाकर तीनो की बेरहमी से पिटाई की और बंधक बना लिया। उसका कहना है कि मारपीट की खबर पर जब वह अपने घायल पुत्र को देखने प्लांट पर पहुंचा तो उसे भी डरा धमकाकर उससे 35 हजार रुपये भी ले लिए। गौरतलब हो कि इस प्रकरण में मारपीट किये जाते वक्त का इन दबंगो ठेकेदारों ने मजदूरों में भय पैदा करने के लिए बाकायदा अपने लोगो से वीडियो भी बनवाया। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो गया। जो पुलिस के आला अफसरों की निगाहों में आ गया।

जिसके बाद पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी के निर्देश पर आनन फानन में रसूलाबाद पुलिस उपाधीक्षक रामशरण सिंह की सक्रियता में कार्यवाहक कोतवाल सुखबीर सिंह की पुलिस टीम ने घेराबंदी करके दबंग ठेकेदारों अभिषेक सिंह पुत्र यदुनन्दन सिंह निवासी शिव विहार कालोनी उन्नाव व उपेंद्र पुत्र चंद्र प्रकाश निवासी इब्राहिमपुर छिबरामऊ को गिरफ्तार कर लिया। कार्यवाहक कोतवाल सुखबीर सिंह का कहना है कि घटना 2 सितंबर की बताई जा रही है। लेकिन थाना रसूलाबाद पुलिस को सूचना घायलों के परिवारी जनो ने गत दिवस दी थी। जिस पर पुलिस ने दबंग ठेकेदारों के खिलाफ गम्भीर धाराओं में बिना देर किए मुकदमा दर्ज किया और अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned