शिवपाल-अखिलेश में फिर दिखी रार, बोले शिवपाल हमें नहीं दिया गया प्रचार का जिम्मा

कहा-जब तक नेता जी के हाथों में पार्टी की डोर थी, तब हार पर नेताओं से कारण पूछा जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है।

By:

Published: 12 Nov 2017, 07:49 PM IST

कानपुर. समाजवादी पार्टी के पूर्व पद्रेश अध्यक्ष शिवपाल यादव रविवार को कानपुर पहुंचे। वे अपने करीबी पूर्व ब्लॉक प्रमुख विजय लक्ष्मी से मिलने के लिए उनके आवास गए। जहां मीडिया से बातचीत करने के दौरान घर की रार साफ दिखी। शिवपाल यादव ने कहा कि हम पार्टी के इमानदार विधायक हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तरफ से हमें निकाय चुनाव में प्रचार की जिम्मेदारी का आदेश नहीं मिला। इसी के चलते वो इटावा विधानसभा क्षेत्र तक ही सीमित हैं। शिवपाल यादव के शब्दों में अखिलेश द्वारा उन्हें अलग थलग किये जाने का दर्द साफ़ दिखाई पड़ा और इशारों-इशारों में ये जरूर बोल गए कि चुनाव में हार-जीत पर जवाबदेही तय होनी चाहिए। सपा के रणनीतिकारों को इस पर विचार करना चाहिए। जब तक नेता जी के हाथों में पार्टी की डोर थी, तब हार पर नेताओं से कारण पूछा जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है।
हम तो पार्टी के महज विधायक
पूर्व सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव अपने करीबी पूर्व ब्लॉक प्रमुख विजय लक्ष्मी से मिलने के लिए उनके आवास पर गए। यहां उन्होंने अखिलेश यादव का नाम लिए बिना कहा कि हमारी पार्टी के सर्वेसर्वा विधानसभा चुनाव की हार के बाद भी नहीं चेते और उन्हीं के भरोसा से निकाय चुनाव फतह करने की सोच रहे हैं। पर जमीन पर आज भी हालात पहले जैसे ही है। शिवपाल ने कहा कि हमें पार्टी की तरफ से निकाय चुनाव में प्रचार करने की जिम्मेदारी नहीं मिली, इसी के कारण वो अपने गृहनगर तक ही सीमित हैं। शिवपाल यादव ने ईमानदार प्रत्याशियों को जिताए जाने की अपील की।
तय होनी चाहिए जवाबदेही
शिवपाल यादव ने कहा कि लोकतंत्र में हार-जीत की जवाबदेही तय होनी चाहिए। जिस पार्टी के अंदर ये फार्मूला चलता है वो कई दशकों तक जनता के दिल पर राज करता है। लेकिन समाजवादी पार्टी के अंदर जवाबदेही न ली जाती और न चुनावी रणनीतिकार देते। नेता जी जब राष्ट्रीय अध्यक्ष थे तब सरपंच से लेकर संसद तक चुनाव को गंभीरता से लेते और हर एक नेता को काम की जिम्मेदारी दी जाती थी। जहां पार्टी ने खराब प्रदर्शन किया वहां के नेता को तलब कर सवाल-जवाब किए जाते थे और कहीं भी काम पर लापरवाही मिलती उसे संगठन के पद से हटा दिया जाता था।
हम तो नेता जी के साथ, पार्टी में रहकर रखेंगे बात
पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हम तो नेता जी (मुलायम सिंह) के साथ हैं और उनका हर निर्णय हमें मंजूर है। शिवपाल यादव ने कहा कि वो नई पार्टी नहीं बनाएंगे। सपा में रहकर भटके सपाईयों को सही रास्ते पर लाने का काम करेंगे। शिवपाल यादव ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव के कार्यकाल की सराहना की। शिवपाल यादव ने कहा कि अखिलेश यादव ने प्रदेश के लिए बहुत काम किया किया। सपा सरकार के दौरान कई योजनाएं जनता के लिए चलाई गई। लखनऊ मेट्रो व एस्सप्रेस-वे इनमें से खास रहे।
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू
शिवपाल यादव ने भाजपा पर जुबानी हमला बोलते हुए कहा कि जब से सूबे में योगी आदित्यनाथ सीएम बने हैं, तब से अपराध और करप्शन अपने चरम पर पहुंच गया है। महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं तो युवा रोजगार के लिए पलायन कर रहे हैं। भाजपा झुठ के दम पर सत्ता में आई है, जिसके पैर जनता ने धीरे-धीरे कर उखाडऩे शुरू कर दिए हैं। जिसका उदाहरण चित्रकूट विधानसभा का उपचुनाव है। यहां भाजपा प्रत्याशी को हार उठानी पड़ी। जहां एमपी के सीएम ने रात गुजारी वहां भाजपा को गिनती के वोट मिले। निकाय चुनाव में भाजपा के खिलाफ महौल है और सपा को फ्रंट पर आकर चुनावी जंग लडऩी चाहिए।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned