कानपुर में इस बार अलकायदा आतंकी संगठन की हलचल, एटीएस धरपकड़ में जुटी, पकड़े जा चुके हैं कई आतंकी

-कानपुर में मिला अलकायदा आतंकी कनेक्शन तो एटीएस हुई सक्रिय,
-कई टीमें धरपकड़ के लिए कर रही छापेमारी,
-पहले भी आईएसआईएस और हिजबुल आतंकी संगठन का रहा कनेक्शन

By: Arvind Kumar Verma

Published: 12 Jul 2021, 01:23 PM IST

पत्रिका न्यू नेटवर्क
कानपुर. कानपुर में एक बार फिर से आतंकी साए (Terrorist Al Qaeda ) के खतरे को एटीएस (ATS Team In Kanpur) विफल करने में जुटी है। लखनऊ में बीते दिन पकड़े गए आतंकियों (Catch Terrorist In lucknow) की पूछताछ में कानपुर में भी आतंकी के छिपे होने की जानकारी मिली। इसके बाद एटीएस की टीमें धरपकड़ में जुट गईं। हालांकि इसके पहले भी कानपुर में आतंकी गतिविधियां संचालित होती रहीं। तब आईएसआईएस और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी पकड़े जा चुके हैं। इन आतंकियों ने शहर को दहलाने की साजिश रची थी। मगर इस बार आतंकी संगठन अलकायदा (Al Qaeda Terrorist Organisation) से शहर का कनेक्शन मिला है। आतंकियों के मंसूबों को हमेशा एटीएस ने नाकामयाब किया है। इस बार आतंकियों का कानपुर कनेक्शन मिलते ही धरपकड़ जारी है। कई गठित टीमें संदिग्ध इलाकों में छापामारी कर रही हैं।

पहले भी आतंकियों का मिला था कानपुर कनेक्शन

आपको बता दें कि मार्च 2017 में उज्जैन-भोपाल पैसेंजर में बम धमाका हुआ था। इसके बाद यूपी एटीएस ने आईएसआईएस के खुरासान मॉड्यूल का खुलासा किया था। एयरफोर्स से रिटायर्ड गौस मोहम्मद खान मॉड्यूल का सरगना था। वहीं लखनऊ में संगठन का एक आतंकी सैफुल्लाह एनकाउंटर में मारा गया था। प्रदेश के बड़े शहरों में ये आतंकी कई बड़ी वारदातों को अंजाम देने की फिराक में थे। एक और घटना में वर्ष-2018 में जाजमऊ से एटीएस ने हिजबुल के आतंकी कमरुज्जमा को गिरफ्तार किया था। इस आतंकी ने भी घंटाघर सुतरखाना स्थित धार्मिक स्थल सिद्धिविनायक मंदिर में धमाका करने की योजना बनाई थी। वहीं रेल हादसों में भी आतंकी कनेक्शन निकला था।

ये रहे कानपुर से गिरफ्तार आतंकी

- 14 सितंबर 2018 को एटीएस ने हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी कमरुज्जमा उर्फ कमरुद्दीन को जाजमऊ से गिरफ्तार किया।
- मार्च 2017 को आईएसआईएस के आतंकियों के खुरासान मॉड्यूल का खुलासा हुआ।
- अप्रैल 2014 को पटना में विस्फोट करने वाले एक संदिग्ध को पनकी स्टेशन के पास से एटीएस ने पकड़ा।
- जुलाई 2012 में सेंट्रल स्टेशन से फिरोज नाम के संदिग्ध की गिरफ्तारी।
- 18 सितंबर 2011 को रांची निवासी आईएसआई एजेंट फैसल रहमान उर्फ गुड्डू को एटीएस ने गोपनीय सूचनाएं पाकिस्तान भेजने के आरोप में रेल बाजार से गिरफ्तार किया।
- 11 सितंबर 2009 को आईएसआई एजेंट इम्तियाज को सचेंडी से गिरफ्तार किया।
- 27 सितंबर 2009 को बिठूर से आईएसआई एजेंट वकास की गिरफ्तारी हुई।
- 14 अगस्त 2000 में कानपुर के आर्यनगर में पहला कुकर बम धमाका हुआ था।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned