दूषित पानी के चलते प्रसव के दौरान खून की कमी से होती मौत

दूषित पानी के चलते प्रसव के दौरान खून की कमी से होती मौत

Alok Pandey | Updated: 29 Jun 2019, 01:45:45 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

70 फीसदी महिलाओं में एनीमिया रोग, आंतों में हो रहे कीड़े
किशोरावस्था में लगने वाला यह रोग पीछा नहीं छोड़ता

कानपुर। महिलाओं में प्रसव के दौरान जो मौतें होती हैं उसके लिए खून की कमी को जिम्मेदार ठहराया जाता है, लेकिन इसके पीछे अहम वजह होता है दूषित पानी। बचपन से दूषित पानी का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं को बचपन में ही एनीमिया रोग घेर लेता है। इस रोग के चलते उनके शरीर में खून की कमी बनी रहती है। ऐसा गर्भधारण करने वाली ७० फीसदी महिलाओं में होता है। जिसके चलते उनमें हीमोग्लोबिन का लेबल इतना गिर जाता है कि जो प्रसव के दौरान जानलेवा भी बन जाता है।

घरेलू प्रसव में एनीमिया बनता खतरा
गर्भधारण करने वाली एनीमिया से ग्रसित उन महिलाओं की प्रसव के दौरान मौतें ज्यादा होती हैं, जिनका प्रसव घर में ही कराया जाता है, या फिर प्रसव के पहले अस्पताल न जाकर घर पर ही एएनएम या आशा बहू के जरिए टीकाकरण करा लिया जाता है। ऐसे में उनकी खून की जांच सही से नहीं हो पाती और हीमोग्लोबिन का लेबल पता नहीं चल पाता। कुछ मामलों में सब कुछ जानते हुए भी सही पोषण न मिलने और दवाइयों का समय से सेवन न करने से खून की कमी पूरी नहीं हो पाती है।

पीछा नहीं छोड़ता यह रोग
प्रसव के दौरान जो मौतें होती हैं, उनका नंबर वन किलर एनीमिया है। गर्भधारण करने वाली 70 फीसदी महिलाओं को खून की कमी होती है। यह रोग किशोरावस्था में ही बेटियों को लग जाता है जो बाद में भी बना रहता है। खून में 11 ग्राम से कम हीमोग्लोबिन होने को एनीमिया कहते हैं। अधिकांश महिलाएं आठ-नौ ग्राम हीमोग्लोबिन के साथ आती हैं।

संक्रमित पानी से होता एनीमिया
मेडिकल कॉलेज की स्त्री रोग विभागाध्यक्ष डॉ. किरन पांडेय के निर्देशन में डॉक्टरों ने गर्भवतियों और महिलाओं के एनीमिया पर शोध किया है। जिसमें पता चला है कि एनीमिया का एक बड़ा कारण संक्रमित पानी है। संक्रमित पानी के कारण टायफायड, आंतों में बैक्टीरियल संक्रमण के अलावा पेट में कीड़े भी पड़ जाते हैं जिससे एनीमिया होता है। शोध की सह निर्देशक डॉ. सीमा द्विवेदी का कहना है कि संक्रमित पानी से आंतों में कीड़े हो जाते हैं। ये कीड़े खून चूसते हैं जिससे एनीमिया हो जाता है। इसी से आयरन की गोली के साथ पेट के कीड़े की भी दवा दी जाती है।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned