नेता ने प्रचार का इजाद किया गजब का आईडिया, कार्ड में खिलवाया वोट-फॉर अखिलेश भईया

बहन की शादी के कार्ड में सपा को वोट देने की लिखी अपील, अखिलेश यादव ने कार्य का सराहा, 10 फरवरी को अकबपुर आने का निमंत्रण स्वीकार किया, बीजेपी ने इसे गलत बताया।

By: Vinod Nigam

Published: 09 Feb 2019, 09:20 AM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। लोकसभा चुनाव अब सिर चढ़कर बोल रहा है तो वहीं सहालग के मौसम में भी राजनीतिक दलों के नेता व कार्यकर्ता अपनी-अपनी पार्टी के लिए प्रचार कर रहे हैं। लेकिन कानपुर देहात में एक सपा कार्यकर्ता कह बहन की शादी पिछले कई दिनों से चर्चा में बनीं है। दरअसल सपा नेता सौरभ सिंह उर्फ देवेंद्र की बहन की 10 फरवरी को शादी है और उन्होंने आमत्रंण कार्ड में चुनाव प्रचार का अनोखा नुख्श इजाद किया है। बरात में शामिल होने वालों से उन्होंने कार्ड के जरिए अपील की है कि भरपेट भोजन करें और चुनाव के वक्त अखिलेश भईया की पार्टी को वोटकर जिताएं।

वोट फॉर अखिलेश
देशभर में लोकसभा चुनाव को लेकर घमासान मचा हुआ है। नेता सभाओं में एक-दूसरे पर आरोप लगा कर जनता को अपने पाले में लाने के लिए जुटे हुए है। तो वहीं अकबरपुर ब्लॉक के मैदु गांव में शहनाई के बीच चुनावी शोर सुनाई दे रहा है। यहां के रहने वाले सपा नेता सौरभ सिंह उर्फ देवेंद्र की बहन लवली की के साथ सात फेरे लेने के लिए अभय बरात लेकर रविवार को आ रहे हैं। जिसके चलते पूरे गांव में रौनक है। पंडाल भी सजा है तो वीआईपी व वीवीआईपी के लिए अगल से कमरे सज-धज कर तैयार हैं। पर इन सबके बीच शादी का कार्ड लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। कार्ड के जरिए सपा नेता ने बारात में शामिल होने वाले लोगों से 2019 में वोट फॉर अखिलेश की अपील की है।

अखिलेश भी शादी समारोह मे होंगे शामिल
सपा नेता ने बताया कि वो कुछ दिन पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को कार्ड देने के लिए उनके आवास पर गए थे। सपा सुप्रीमो ने कार्ड देखकर हमारी सराहना की और बहन की शादी समारोह में आने का वादा भी किया है। सपा नेता ने बताया कि उनके पिता जी सपा में थे और मुलायम सिंह यादव के साथ मिलकर पार्टी के लिए कार्य करते थे। उनके निधन के बाद अब हम भईया अखिलेश के प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। सपा नेता ने बताया कि अपने पिता की तरह हम समाजवादी विचारधारा को घर-घर पहुंचाते हैं और अखिलेश यादव के कार्यो की जानकारी जनता तक पहुंचा रहे हैं।

शिवपाल यादव को नहीं दिया कार्ड
सपा नेता ने बताया कि शिवपाल यादव भाजपा के इशारे पर समाजवादी पार्टी को कमजोर करने का कार्य कर रहे हैं। इसी के चलते उन्हें व उनकी पार्टी के एक भी नेता को हमने बहन की शादी में नहीं बुलाया। कहा, शिवपाल यादव का यूपी में जनाधार नहीं है और जनता वोट के जरिए उन्हें जवाब दे देगी। सपा नेता ने कहा कि यदि हम सभी समाजवादी लोग ऐसे ही पार्टी के लिए कार्य करें तो 2019 के साथ ही 2022 में यूपी को भाजपा मुक्त बना देंगे। कहते हैं हमारा एक ही सपना है अखिलेश भईया को सीएम बनना और भाजपा को जनता के सहयोग से सत्ता से बेदखल करना है।

भाजपा ने जताया विरोध
ही बीजेपी नेता इसे दबे स्वर में गलत बता रहे हैं। उनकी माने तो शादी एक पवित्र बंधन होता है और उसमें राजनीति करना गलत है लेकिन शादी के कार्ड पर वोट अपील करने से आगामी लोकसभा चुनाव पर कानपूर देहात की जनता पर कोई असर नहीं पड़ने वाला। भाजपा नेता अनिल शुक्ला वारसी कहते हैं कि सपा की सियासी जमीन पूरी तरह से खिसक चुकी है और उसे पाने के लिए बसपा के साथ गठबंधन किया। लेकिन 2019 में बसपा की तरह सपा भी यूपी से साफ हो जाएगी। शादी समारोह के जरिए पार्टी का प्रचार करना सरासर गलत है।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned