Terrorist Update Kanpur: कई लोगों को हिरासत में लेकर एटीएस पूछताछ में जुटी, रच रहे थे इस तरह की साजिश

-लखनऊ में पकड़े गए आतंकी के बाद कानपुर छापेमारी में जुटी एटीएस,
-आतंकियों के एक साथी की कानपुर नई सड़क में रहने की मिली जानकारी,
-कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही एटीएस,

By: Arvind Kumar Verma

Published: 12 Jul 2021, 05:47 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. यूपी की राजधानी लखनऊ में दुबग्गा से अलकायदा (Al Qaeda Terrorist Arrest) के मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर (Terrorist Minhaj Ahmad And Mushir) दो आतंकी दबोचे गए। इन आतंकियों का एक साथी कानपुर में नई सड़क एरिया में रहता है। काफी समय से यह आतंकी अलकायदा संगठन (Al Qaeda Terrorist Organisation) के लिए कार्य करता है। शहर में आतंकी गतिविधियों के संचालन और साजिशों को अंजाम देने की इसे जिम्मेदारी दी गई है। इसी इरादे से यह आतंकी शहर के कई लोगों को आतंकी संगठन में जोड़कर सक्रिय करने की फिराक में था। बताया गया कि लखनऊ में पकड़े गए आतंकियों के साथ मिलकर वह लखनऊ और कानपुर में बड़े धमाकों या फिर आत्मघाती हमले की नापाक योजना बना रहा था।

नई सड़क पर रहने वाला आतंकी कई वर्षों से आतंकी संगठन से जुड़ा

पूछताछ में जानकारी मिलते ही इसकी गिरफ्तारी के लिए एटीएस की टीम कानपुर पहुंची और छापेमारी शुरू कर दी है। इस दौरान एटीएस ने जाजमऊ, चमनगंज और बेकनगंज इलाके से चार से पांच संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है। जांच में सामने आया कि इनके कई साथी फरार हैं। सूत्रों के अनुसार यह आतंकी कानपुर के नई सड़क इलाके में रहता है और कई साल से संगठन के लिए काम कर रहा है। लोगों को गुमराह करने के लिए छोटी मोटी नौकरी करता है। यहां रहकर वह शहर के चप्पे चप्पे की जानकारी एकत्र करता है। यह कानपुर में बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में था।

सप्ताह में एक दो बार साथियों से मिलने जाता था लखनऊ

यह आतंकी सप्ताह में एक-दो बार लखनऊ जाकर कानपुर की जानकारियों को मुशीर और मिनहाज से साझा करता था। एक तरह से इसे कानपुर में हमलों की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। सूत्रों के मुताबिक इस आतंकी ने यहां के प्राचीन और धार्मिक स्थलों की तस्वीरें दोनों आतंकियों को पहुंचाई हैं। आशंका यह भी है कि मॉल, रेलवे स्टेशन, प्रतिरक्षा प्रतिष्ठान या फिर कोई अन्य भीड़भाड़ वाला स्थान इनके निशाने पर हो सकता था। इसकी गिरफ्तारी के लिए एटीएस लखनऊ के साथ कानपुर में भी छापेमारी कर रही है। यह आतंकी शहर के कुछ लोगों को जेहादी वीडियो दिखाकर मोटिवेट कर अपने जाल में फंसा चुका था। गरीब और मजलूम इसके निशाने पर थे।

ट्रेस से बचने के लिए व्हाट्सएप से करते थे कॉल

ऐसा माना जा रहा है कि नई सड़क पर रहने वाला ये आतंकी कानपुर का मुख्य आतंकी है। ट्रेसिंग से बचने के लिए ये व्हाट्सएप कॉल से बात करते थे। इसके कई परिचितों को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। सूत्रों का यहां तक दावा है कि एटीएस किसी भी वक्त उसकी गिरफ्तारी कर सकती है। जांच एजेंसी आशंका कर रही है कि लखनऊ में बरामद हुए असलहों और विस्फोटक की तरह इनके कानपुर का साथी भी विस्फोटक से लैस होगा। इसलिए जांच एजेंसियां पूरी एहतियात बरत रही हैं और प्रोटोकॉल के तहत ही कार्रवाई की रणनीति पर आगे बढ़ रही हैं।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned