गणेश उत्सव में बार-बालाओं ने लगाए ठुमके, पुलिसवाले भी फिज्मी गानों की धुन में थिरके

Vinod Nigam

Publish: Sep, 16 2018 07:35:57 PM (IST)

Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। नजीराबाद थानाक्षेत्र स्थित गणेश महोत्सव को लेकर एक भव्य पंडाल सजाया गया है और उसमें गजानन की प्रतिमा विराजमान है। हरदिन की तरह भक्त शनिवार की शाम पंडाल पर पिराजे गणपति की पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे। लेकिन यहां पर धर्म के नाम पर अश्लीता परोसी जा रही थी, यह देख कुछ लोगों ने विरोध किया तो आयोजकों ने उन्हें भगा दिया। इसके बाद बार-बलाओं ने पूरी रात लोगों को अपने डांस से मंत्रमुग्ध कर खूब पैसा कमाया। पंडाल की सुरक्षा व्यवस्था में तैनात पुलिसकर्मी भी डांस का आनंद उठाने के लिए अंदर आ गए और फिर वो भी फिल्मी गानों की धून में जमकर थिरके।

नजीराबाद में परोसी गई अश्लीलता
गणेश महोत्सव के पर्व पर पूरा धर्ममय है और भक्तों से गणेश पंडाल भरे हैं। सुबह से लेकर देररात तक पंडालों में भजन-कीतन का दौर चल रहा था तो कहीं-कहीं आयोजक फिल्मी कलाकारों को बुलाकर गणेश महोत्सव पर चार चांद लगा रहे हैं। पर शनिवार को नजीराबाद थानाक्षेत्र सजे पंडाल का नजारा कुछ अगल ही था। आयोजक अजय मिश्रा ने लोगों की संख्या बढ़ाने और पैसे कमाने के चलते बाहर से बार-बालाओं को बुलाया था। जहां पर भक्ति गीत बजना चाहिए, वहां पर अश्लील डांस के साथ बाल-बलाएं ठुकमे लगा रहा लोगों को मंत्रमुग्ध कर रही थीं। इस दौरान कुछ गणेश भक्तों ने इसका विरोध किया तो आयोजक ने अपने गुर्गो के जरिए उन्हें बाहर निकलवा दिया।

आयोजक ने कमाए पैसे
स्थानीय लोगों ने बताया इस आयोजन के लिए बार बालाओं को खासतौर पर बुलाया गया था। देर शाम को शुरू हुए इस आयोजन में रात घिरने के बाद अश्लीलता चरम पर पहुंच गई। बाल-बलाएं फिल्मी गानों में जमकर थिरकीं तो मंत्र पर नोटों की बरसात शुरू हो गई। स्थानीय लोगों का कहना है कि आयोजक ने पैसे कमानें के चलते पंडाल में भगवान गणेश को विराजमान करवाया और फिर टिकट देकर लोगों को अंदर प्रवेश कराया। नजीराबाद निवासी अशोक श्रीवास्तव ने कहा कि हमलोग हर साल गणेश महोत्सव पर चंदा देते हैं और भगवान गणेश की प्रतिमा विराजमान करवाते हैं। पर इस वर्ष आयोजन का जिम्मा अजय मिश्रा के हाथों में था और उसने धर्म के नाम पर अपनी तिजोरी भरी।

पुलसवालों ने भी ठुमके लगाए
सुरक्षा में तैनाम पुलिसकर्मी भी बार-बलाओं को थिरकते देख अपने को रोक नहीं पाए और पंडाल के अंदर बनें मंच पर चड़कर जमकर ठुमके लगाए। पुलिसकर्मी वर्दी में बाल-बालाओं के गले में हाथ डालकर नाचें। मामले पर जब नजीराबाद इंस्पेक्टर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमारे पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है। फिर भी यदि कोई शिकायत लेकर आएगा तो पूरे प्रकरण की जांच करा दोषी पाए जाने पर पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मामले पर आयोजक अजय मिश्रा से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने इस पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।

 

Ad Block is Banned