कोरोना काल में मरीज से 19 लाख वसूली के मामले में तुलसी अस्पताल के सीएमडी सहित तीन के खिलाफ एफआईआर दर्ज

-कानपुर में हॉस्पिटल में सीएमडी सहित तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा,
-कोरोना काल में इलाज में लापरवाही से महिला की मौत का आरोप,
-मरीज से 19 लाख रुपए वसूली का लगा था आरोप,

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 24 Jun 2021, 06:30 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. कोरोना संकट (Corona Crisis) के दौरान कानपुर के तुलसी अस्पताल (Tulsi Hospital Kanpur) में अवैध धन वसूली सहित इलाज में लापरवाही से महिला की मौत का मामला सामने आया था। प्रकरण में पुलिस ने अस्पताल के सीएमडी समेत तीन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। किदवई नगर कानपुर के एच-ब्लॉक निवासी अतुल देव ने पुलिस को बताया कि उनकी मां गीता गुप्त को उस दौरान सांस की समस्या हुई। इस पर उन्होंने तुलसी अस्पताल में डॉ. आंचल गुप्ता को दिखाया था। हालत देख डॉक्टर ने उन्हे भर्ती कर लिया। इसके दो दिन बाद आईसीयू में शिफ्ट किया गया।

वहीं 23 अप्रैल को डॉ. आंचल ने रेमडेडिविर इंजेक्शन तुरंत लगाने की बात कहकर अस्पताल के सीएमडी शेखर गुप्ता से मिलने की बात कही। उनका आरोप है कि शेखर गुप्ता ने 55 हजार रुपये प्रति इंजेक्शन की दर से छह इंजेक्शन 3 लाख 30 हजार रुपये के बेचे। साथ ही इंजेक्शन के नगद रुपए डॉ. पुष्पेंद्र गुप्ता को देने के लिए बोला। इस पर उन्हें रुपए दे दिए गए। मगर 16 मई को इलाज में लापरवाही के छोटे मां की मौत हो गई। पीड़ित के मुताबिक पूरे इलाज के दौरान करीब 19 लाख रुपए खर्च वसूला गया। और पैसे मांगने पर प्रबंधन ने गाली गलौज व धमकी दी। फिलहाल पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने सीएमडी, डॉ. आंचल कपूर व डॉ. पुष्पेंद्र गुप्ता के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned