नदवी का नहीं कोर्ट के निर्णय को मानेगा बोर्ड, भगवा एजेंडा को लागू करना चाह रही भाजपा


आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का 26वें अधिवेशन में भाग लेने के लिए कानपुर के मोहम्मद सुलेमान पहुंचे हैदराबाद, चर्चा के दौरान रखी अपनी बात

By: Vinod Nigam

Published: 10 Feb 2018, 02:26 PM IST

कानपुर, आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का 26वें अधिवेशन का आगाज शुक्रवार को हैदराबाद में हो गया। इस दौरान देश के कई पर्सनल लॉ बोर्ड वहां मौजूद हैं। इन्हीं में से एक कानपुर निवासी मोहम्मद सुलेमान ने बैठक के दौरान भाजपा के भगवा एजेंडे को चर्चा में शामिल करने का प्रस्ताव दिया। जिस पर अन्य सदस्यों ने इस मसले पर 11 फरवरी को बहस करने की हामी भरी। मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि अयोध्या विवाद को बोर्ड कोर्ट के निर्णय को मानेंगा। हम श्री-श्री और सलमान हुसैन नदवी के बनाए फार्मूले को किसी तरह से मानेंगे। मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि बैठक के दौरान हमने जोरदार तरीके से अन मुद्दों पर अपनी रख रखी, जिसे बोर्ड के अन्य सदस्यों ने सराहा। भाजपा देश में भगवा एजेंडा लागू करने का प्रसास कर रही है, जिसे बोर्ड के सदस्य कामयाब नहीं होने देंगे।

भगवा एजेंडे को चर्चा में शामिल करने का दिया प्रस्ताव
आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का 26वें अधिवेशन हैदराबाद में चल रहा है। अधिवेशन में देश के कई सदस्य बैठक में शामिल होने के लिए वहां पहुंच गए हैं। कानपुर से पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मोहम्मद सुलेमान भी बैठक में शामिल हुए और भाजपा के भगवा एजेंडे को चर्चा में शामिल करने का प्रस्ताव दिया, जिसे अन्य सदस्यों ने मान्य कर लिया। मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि जब से केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है तब से समाज के अंदर विष घोलने का काम किया जा रहा है। केंद्र व राज्य सरकार स्कूलों में वंदेमातरम् थोप रही है। केंद्रीय विद्यालयों की इतिहास की पुस्तकों में तथ्य बदले जा रहे हैं। अल्पसंख्यक विद्यालयों में संस्कृत भी पढ़ाई जाएगी। यह भगवाकरण की साजिश है।
संविधान के साथ कर रही छेड़छाड़
मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि भाजपा और संघ मिलकर भीमराव आंबेडकर के बनाए संविधान के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं। संविधान ने सभी को अपने धर्म अनुसार इबादत करने की आजादी दी है, लेकिन अब भगवा एजेंडा लागू करने का प्रयास हो रहा। पर्सनल लॉ बोर्ड सदस्य ने कहा कि बोर्ड अब सिर्फ मुस्लिमों तक ही सीमित नहीं रहेगा बल्कि अपनी इस्लाहे मुआशरा (समाज सुधार) योजना के तहत अब सभी समुदाय के लोगों से भी संपर्क करेगा और उन्हें बताएगा कि इस्लाम क्या है। मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि भाजपा इस्लाम को गलत तरीके से समाज के बीच परोस रही है। जिसे पसर्नल लॉ बोर्ड के सदस्य समाज के अंदर जाकर उन्हें इसके सही चेहरे से उन्हें अवगत कराएंगे। इस्लाम पूरे देश में मानवता का संदेश देने वाला धर्म है। इसमें कत्ल, रेप, तलाक सहित अन्य घटनाओं को अपराध मना गया है।
कोर्ट का निर्णय मानेंगे बोर्ड
मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि श्री-श्री और सलमान हुसैन नदवी के फार्मूले को मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड नहीं मानेंगे। मामला कोर्ट में चल रहा है जो भी निर्णय न्यायाधीश देंगे उसे हम मानेंगे। बैठक के पहले दिन श्री-श्री और मदनी की सुलह को तत्काल खारिज कर दिया गया। साथ ही बैठक के दौरान तीन तलाक के साथ सहित अन्य मसले पर भी चर्चा की गई। जिन्हें शरियत से सुलझाने पर निर्णय लिया गया। मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि मुस्लिम समाज के अंदर जो समस्याएं आ रही है, उन्हें निपटाने के लिए काम चल रहा है। तीन तलाक देने वालों के समाज से बाहिष्कार किया जाएगा। मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि मुस्लिम समाज के कुछ लोग भाजपा के एजेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं। इन्हें बोर्ड के सदस्य बेनकाब करेंगे।

Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned