कांग्रेस के पूर्व सांसद और पूर्व विधायक ज्वाइन करेंगे बीजेपी, रीता के चाय पार्टी में बनी बात

कांग्रेस के पूर्व सांसद और पूर्व विधायक ज्वाइन करेंगे बीजेपी, रीता के चाय पार्टी में बनी बात

बोलीं-सपा, बसपा और कांग्रेस के पास जनाधार नहीं बचा, इसी के कारण विधायक, सांसद व संगठन से जुड़े नेता भाजपा को ज्वाइन कर रहे हैं।

कानपुर. कानपुर से कांग्रेस के एक पूर्व सांसद और पूर्व विधायक का भाजपा में आना तय माना जा रहा है। योगी की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कानपुर में एक कांग्रेसी नेता के घर पहुंची और वहां पर उन्होंने चाय पार्टी की जिसमें कांग्रेस के एक पूर्व सांसद और पूर्व विधायक के भाजपा में आने की बात पर सहमति बनी। भारतीय जनता पार्टी मिशन 2019 के लिए जमीन स्तर पर जहां अपने को मजबूत करने के साथ ही विरोधी दलों के नेताओं को अपने पाले में लाने के लिए प्रयास कर रही है। बिहार, गुजरात, लखनऊ के बाद अब भाजपा कानपुर में जनाधार वाले नेताओं को अपने पाले में लाने के लिए जुट गई है। इसी कड़ी में यूपी की कैबिनेट मिनीस्टर रीता बहुगुणा जोशी रविवार को एक कांग्रेसी नेता के घर पहुंची। यहां उन्होंने चाय की पार्टी रखी, जिसमें कई दिग्गज नेता शामिल हुए। पार्टी के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान मिनिस्टर ने सपा, बसपा और कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि इन दलों के पास जनाधार नहीं बचा, इसी के कारण विधायक, सांसद व संगठन से जुड़े नेता भाजपा को ज्वाइन कर रहे हैं।

मायावती पर बोला जुबानी हमला 
उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी रविवार को कानपुर पहुंची। डॉक्टर जोशी एक कांग्रेस नेता के घर चाय की पार्टी रखीं। इस अवसर पर उन्होंने बसपा सुप्रीमो मायावती के इस आरोप, भाजपा दूसरे राजनैतिक दलों को तोड़कर लोकतन्त्र की हत्या कर रही है पर पलटवार करते हुए कहा कि बहन जी ने दलित समाज के वोटों को बेचकर अपनी तिजोरी भरी है। उन्होंने चुनकर आए विधायकों से कभी बात नहीं की। इसी के चलते अब लोग बसपा  छोड़कर भाजपा में  आ रहे हैं तो उन्हें मिर्ची लग रही है। 

उन्होंने बसपा सुप्रीमो पर जुबानी हमला बोलते हुए कहा कि मायावती ने कभी जनता के दर्द को नहीं समझा, इसी का नतीजा रहा कि लोकसभा चुनाव में इनके दल का खाता नहीं खुला। अब धर्म, जाति के अधार पर राजनीति करने वालों के दिल दल गए हैं। जो विकास करेग, करप्शन के खिलाफ  खड़ा होगा, वही राजनीति में रहेगा।    

आत्म चिन्तन करने की दी सलाह 
डॉक्टर रीता बहुगुणा जोशी ने कॉग्रेस, सपा और बसपा को भाजपा पर तोहमत लगाने की बजाय आत्म चिन्तन करने की सलाह दी है। उन्होने कहा कि अगर गुजरात में कांग्रेस और यूपी में सपा-बसपा के विधायक टूट कर भाजपा में जा रहे हैं तो इसकी मूल वजह विपक्षी दलों की एकता में आयी दरार है। हर राजनेता को अपना भविष्य तय करने का अधिकार है और जब ये विपक्षी पार्टियां अपने खुद का अस्तित्व बचाने के लिये जूझ रही हैं तो विधायकों का सत्ता की तरफ  रूख करना स्वभाविक है। उन्होंने सपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को याद दिलाया कि उन्होंने भी सत्ता में रहते हुए कई विपक्षी नेताओं को अपने साथ मिला लिया था। गुजरात के मामले में भी डॉक्टर रीता जोशी ने भाजपा का बचाव किया और कहा कि भाजपा खरीद फरोख्त की राजनीति में विश्वास नहीं करती है। उनका मानना है कि कई राज्य में जल्दी ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और ऐसे में पार्टियों में आने जाने का दौर एक सामान्य राजनैतिक प्रक्रिया है।

कई कांग्रेसी थाम सकते हैं भाजपा का दामन
भाजपा अध्यक्ष के फार्मूले विरोधी दलों को तोड़कर उन्हें कमजोर करने की रणनीति के तहत अब अपने मंत्रियों और  बड़े नेताओ को लगाया है। सूत्रों की माने तो पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रहीं रीता बहुगुणा जोशी के संपर्क में कानपुर के कई दिग्गज कांग्रेसी हैं। इनमें से दो बड़े नेता हैं जो कांग्रेस से विधायक और सांसद भी रह चुके हैं। चाय पार्टी के दौरान वो तो नहीं दिखे, लेकिन उनके समर्थक डॉक्टर जोशी से मिले। खुद जोशी ने भी कहा कि इमानदार और क्लीन छवि वाले नेताओं के लिए भाजपा के दरवाजे खुले हैं। डॉक्टर जोशी ने कहा कि कांग्रेस एक परिवार के साथ ही करेप्शन धारी नेताओं की पार्टी बनकर रह गई है। कांग्रेस अब डूबता हुआ जहाज है, जिसमें अब कोई रूकना नहीं चाहता।     
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned