भाजपा सांसद ने शराब की बिक्री का किया विरोध, सीएम योगी को पत्र लिखकर तालेबंदी की मांग

भाजपा सांसद ने इसके कारण कमजोर पड़ जाएगी कोरोना की लड़ाई, 17 मई के बाद खुले शराब की दुकान, पूर्व सांसद ने भी डीएम को सौंपा ज्ञापन।

By: Vinod Nigam

Published: 05 May 2020, 07:24 PM IST

कानपुर। लॉकडाउन तीन के बीच सोमवार को जिलाप्रशासन ने शराब की दुकान खोले जाने की अनुमति दे दी। जिसके कारण उत्तर प्रदेश की सियासत गर्म हो गई है। जहां विरोधी दलों के नेता सरकार को घर रहे हैं तो वहीं भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी ने भी इसके खिलाफ बिगुल फूंक दिया है। सांसद ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर शराबबंदी की मांग की है। सांसद ने पत्र में लिखा है कि कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई शराब दुकानें खुलने से कमजोर पड़ रही है। अतः इस पर तत्काल रोक लगाई जाए।

कमजोर पड़ जाएगी लड़ाई
लॉकडाउन में शराब की दुकानों का खोला जाना शहर सांसद सत्यदेव पचौरी भी उचित नहीं मानते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर शराब की दुकानें खुलने का विरोध जताया है। उन्होंने पत्र में कहा है कि दुकानों पर लगी भीड़ से लॉकडाउन के शरीरिक दूरी वाला मानक टूट रहा है। इसलिए रेड जोन वाले जिले में लॉकडाउन तक शराब की दुकानें बंद कराई जाएं। सांसद ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई शराब की दुकानें खुलने से कमजोर पड़ रही है।

इसके कारण लिखा पत्र
बतादें कानपुर नगर जनपद में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है और यहां पर हॉट स्पॉट इलाके भी बढ़ रहे हैं। इन सबके बीच शासन के आदेश पर सोमवार से हॉट स्पॉट इलाकों को छोड़ जनपद में शराब की बिक्री शुरु हो गयी। शराब की दुकानें खुलने से जहां शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो पा रहा है तो वहीं नशेबाजों का तांडव भी देखने को मिल रहा है। यही नहीं पहले दिन ही कई घटनाएं भी सामने आ गई हैं। बिल्हौर में नशेबाज ने दिव्यांग किसान की हत्या कर दी है तो गोविंदनगर में नशेबाजी का विरोध करने पर युवती गर्म तेल डाल दिया गया। ऐसे में कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन में शराब की दुकानें खोला जाना शहरवासी उचित नहीं मान रहे हैं।

पूर्व सांसद ने डीएम को सौंपा पत्र
शराब की दुकानें खोले जाने का व्यापारिक व सामाजिक संगठनों ने तीखा विरोध किया है। उप्र उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष श्यामबिहारी मिश्र अन्य व्यापारियों के साथ डीएम से मिलकर उन्हें सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापन सौंपा। जिसमें उन्होंने मांग की है कि तत्काल प्रभाव से शराब की बिक्री पर रोक लगाई जाए। पूर्व सांसद का कहना है कि शराब के खरीदार सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं कर रहे। जिससे जनपद में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बड़ने का अनुमान है।

प्रसपा ने भी तालंबदी की मांग
प्रसपा ने भी शराब की दुकानों को खोलने का विरोध किया है। मुख्यमंत्री को भेजे गये पत्र में पार्टी ने मांग किया है कि उत्तर प्रदेश में हमेशा के लिए पूर्ण शराब बन्दी लागू किया जाय। पार्टी के नगर अध्यक्ष आशीष चौबे ने कहा की लॉकडाउन मे गरीब जनता भुखमरी की शिकार है, शराब की दुकानें खुलने से घरेलू हिंसा व विवाद बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि शराब की दुकानों की अपेक्षा सरकार राजस्व बढ़ाने के दूसरे स्रोत तलाशे। नगर अध्यक्ष ने कहा कि सरकार यदि शराब की दुकानें बन्द नहीं करती है तो पार्टी आन्दोलन करेगी।

 

 

Bharatiya Janata Party
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned