बसपा छोड़ भाजपा का थामा दामन, डिम्पल पर भारी पड़ सकते निर्मल

कल्याणपुर निवासी बसपा नेता निर्मल तिवारी ने बसपा से दिया इस्तीफा, लखनऊ में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की मौजूदगी में ज्वादन की भाजपा, कन्नौज का बनाया गया चुनाव प्रभारी।

By: Vinod Nigam

Published: 04 Apr 2019, 09:05 AM IST

कानपुर। लोकसभा मतदान से पहले यूपी के कैबिनेट मंत्री व पूर्व बसपा के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य ने मायावती को तगड़ा झटका देते हुए बसपा के कद्दावर ब्राम्हण नेता निर्मल तिवारी को भाजपा की सदस्ता दिला दी। उन्हें बकाएदा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पंाडेय की मौजूदगी में पार्टी में शामिल किया गया। पत्रिका से खास बातचीत के दौरान पूर्व बसपा नेता ने बताया कि जब से बसपा प्रमुख कुर्सी के लिए अपने मिशन से भटक गई हैं। उन्होंने उस दल से गठबंधन किया, जिनके कार्यकर्ता दलितों का उत्पीड़न करते थे। इसी से आहत होकर हमने अगल होने का बन बना लिया और अब मकदस चैकीदार को फिर से दिल्ली की कुर्सी पर बैठाने का है।

कौन हैं निर्मल तिवारी
आवास विकास, कल्याणपुर निवासी निर्मल तिवारी बसपा के ब्राह्मण चेहरा के तौर पर जाने जाते थे। 2007 में उन्हें मात्र 672 मतों से भाजपा प्रत्याशी से हार का सामना करना पड़ा। 2012 में भी अच्छा चुनाव लड़े, लेकिन इस बार भी मात्र 7621 मतों से सपा प्रत्याशी से हार हुई। 2014 में कन्नौज लोकसभा सीट से बसपा ने इन्हें चुनाव के मैदान में उतारा। निर्मल तिवारी का मुकाबला सपा प्रत्याशी डिंपल यादव के साथ था। इस चुनाव में निर्मल तिवारी को 1,29,000 मतों से हार उठानी पड़ी थी। जानकारों की मानें तो कन्नौज में दो ब्राम्हण चेहरे होने के चलते वोट बटे और इसी के चलते बहुत कम वोटों से डिम्पल यादव जीत दर्ज की थी।

फिर गोविंदनगर से दिया टिकट
निर्मल तिवारी को बसपा प्रमुख मायावती ने कल्याणपुर के बजाए 2017 के विधानभा चुनाव में गोविंदनगर सीट से टिकट दिया। पर उन्हें यहां भी हार उठानी पड़ी। उस वक्त खुलकर निर्मल तिवारी ने बसपा प्रमुख के पास जाकर कल्याणपुर सीट दिए जाने की मांग की थी, पर वो नहीं मानीं। इसी के बाद से निर्मल तिवारी ने बसपा से दूरी बना ली। बसपा के कार्यक्रमों में से अपने को दूर रखा। इसी बीच उनका सपंर्क पूर्व बसपा नेता व मौजूद यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य हुआ। स्वामी प्रसाद मौर्य ने उन्हें भाजपा में शामिल करने की व्यूहरचना तैयार की।

कन्नौज का मिला प्रभार
भाजपा ने निर्मल तिवारी को कन्नौज और अकबरपुर लोकसभा क्षेत्र में प्रचार की जिम्मेदारी सौंपी है। भाजपा का कन्नौज पर ज्यादा फोकस रहेगा। सपा ने कन्नौज से एक बार फिर डिंपल यादव को मैदान में उतारा है, तो भाजपा से सुब्रत पाठक भी दोबारा मैदान में हैं। पिछले चुनाव में सुब्रत पाठक डिंपल यादव से 19907 मतों के नजदीकी अंतर से हार गए थे। बसपा से निर्मल तिवारी तीसरे स्थान पर रहे थे। निर्मल तिवारी के बसपा में रहने के चलते सपा ब्राम्हण वोटर्स को अपने पक्ष में मानकर चल रही थी। अचानक बसपा से निर्मल तिवारी का विकेट गिरने से सपा-बसपा गठबंधन में खलबली मच गई है।

BJP
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned