पेंसिल चबाने से बच्चे दांतों में लग सकती बीमारियां

पेंसिल चबाने से बच्चे दांतों में लग सकती बीमारियां

Alok Pandey | Publish: May, 15 2019 02:41:42 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

लापरवाही बरतने पर लग सकता है पायरिया का रोग,
इलाज के लिए दूध के दांत टूटने का न करें इंतजार

कानपुर। बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत आम है इसलिए उस पर लोग ध्यान नहीं देते। आगे चलकर बच्चा पेंसिल भी चबाता है तो उसे भी सामान्य तौर पर देखा जाता है, लेकिन यह आदत बच्चों के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है। उनकी शक्ल बिगडऩे के साथ-साथ दांतों में बीमारियां भी लग जाती हैं।

खराब हो जाती है सूरत
अंगूठा चूसने की तरह ही अगर पेंसिल चबाना या होंठ चबाने की आदत बच्चे को है तो उसे ऐसा करने पर बार-बार टोंके और यह आदत छुड़ाने का प्रयास करें, वरना उसके दांत टेढ़े हो सकते हैं और इससे उसकी शक्ल सूरत खराब हो जाती है।

लग जाती हैं बीमारियां
बच्चों के दांतों के टेढ़े होने से आगे चलकर पायरिया का रोग लग सकता है, जो दंातों का दुश्मन होता है। इससे शरीर के दूसरे अंगों पर भी बुरा असर पड़ता है। टेढ़े दांतों की पूरी तरह से सफाई कर पाना मुश्किल होता है, इससे दांत काले भी पड़ जाते हैं।

दूध के दांत टूटने का इंतजार न करें
इंडियन डेंटल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष डॉ. एके मेहरोत्रा का कहना है कि दांतों का इलाज समय रहते हो जाना चाहिए। कई आधुनिक तकनीक से दांतों को ठीक किया जा सकता है। दांत खराब होने पर ज्यादातर लोग दूध के दांत टूटने का इंतजार करते हैं, पर ऐसा नहीं करना चाहिए। इलाज तुरंत शुरू कर देना चहिए।

बच्चों की इन बातों पर दें ध्यान
अगर बच्चा मुंह खोलकर सोता है तो उसका उपचार कराना चाहिए। बच्चों में जबान से दंात ठेलने की आदत पर उसे टोकें और ऐसा न करने के लिए समझाएं। चुसनी की आदत जितनी जल्दी हो छुड़वा दें। अगर बच्चा पेंसिल या होंठ चबाता है तो नजर रखें और ऐसा करने से रोकें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned