खुशखबरी: नहीं देना होगा बिजली का अतिरिक्त बिल, ऐसे कीजिए आंकलन

ज्यादा बिल जमा कर चुके उपभोक्ताओं की रकम अगले बिल में होगी समायोजित
उच्चतम टैरिफ से छुटकारा देने का फैसला, स्लैब के हिसाब से बनेगा बिल

कानपुर। लॉकडाउन में बिजली का बिल जमा करने में मिली छूट विद्युत उपभोक्ताओं पर भारी पड़ गई है। केस्को ने एक साथ ढाई महीने का बिल भेजा है, मगर मुश्किल बात यह हो गई कि एक साथ आए ढाई महीने के बिल ने रीडिंग के हिसाब से उच्चतम स्लैब वाला रेट लगा दिया है, जिससे उपभोक्ताओं की जेब कटने की नौबत खड़ी हो गई। जब मामला केस्को के आला अफसरों के संज्ञान में आया तो उन्होंने उपभोक्ताओं को नई सहूलियत दी है।

एमडी ने दी राहत
केस्को के एमडी ने ज्यादा बिल से परेशान उपभोक्ताओं को राहत देते हुए कहा है कि अगर किसी को लगता है कि उसका बिल ज्यादा स्लैब के हिसाब से आ गया है तो वह संबंधित एक्सईएन से इसकी जांच करा लें और अगर बिल जमा नहीं किया है तो उसे संशोधित कराकर जमा कर दें। उन्होंने यह भी कहा कि जो उपभोक्ता बिल जमा कर चुके हैं और अगर जांच में उनका बिल ज्यादा निकलता है तो बाकी राशि अगले बिल में समायोजित करा सकेंगे। एमडी ने कहा कि किसी को भी निर्धारित स्लैब से ज्यादा टैरिफ का बिल जमा करने की जरूरत नहीं होगी।

क्यों आया ज्यादा बिल
दरअलस 23 मार्च को प्रदेश में लागू हुए लॉकडाउन के दौरान शासन ने बिजली बिल वसूली और रीडिंग पर रोक लगाई थी। उस समय लगभग दो महीने तक ना ही बिजली बिल आया और ना ही रीडिंग ली गई और अब दो से ढाई महीने की एक साथ रीडिंग जोडकऱ बिजली का बिल भेजा गया है। जो उच्चतम स्लैब को पार कर गया है। जिसके चलते उभोक्ताओं के सामने महंगे रेट की बिजली का बिल चुकाने की नौबत खड़ी हो गई।

मार्च-अप्रैल और मई का एक साथ आया बिल
मई महीने में लॉकडाउन-4.0 में छूट के बाद केस्को ने विभिन्न बिलिंग एजेंसियों के माध्यम से मीटर रीडिंग शुरू कराने के निर्देश दिए तो बिलिंग एजेंसियों ने मीटर रीडिंग के शहरी व ग्रामीण उपभोक्ताओं के घरों में दो-ढाई माह बाद एकमुश्त रीडिंग लेकर बिल जारी कर दिया। ऐसे में रीडिंग के उच्चतम स्लैब पार करने के कारण उन्हें दो से ढाई गुना बिल थमाए गए।

इस तरह करें बिल का आंकलन
बिजली बिल के नए टैरिफ प्लान के अनुसार घरेलू लाइन व पंखा (शहरी) श्रेणी के उपभोक्ताओं को चार श्रेणियों में बांटा गया था। 0-150 यूनिट के बीच उपभोग करने पर 5.50 रुपये, 151 से 300 के बीच 6.00 रुपये, 301 से 500 यूनिट के लिए 6.50 रुपये एवं 501 यूनिट से उपर के लिए 7.00 रुपये प्रति यूनिट की दर लागू है। ग्रामीण क्षेत्र के घरेलू पंखा बिजली वाले उपभोक्ताओं को बिजली उपभोग के पांच स्लैब में बांटा गया है। 0-100 यूनिट के मध्य 3.35 रुपये, 101 से 150 के मध्य 3.85 रुपये, 151 से 300 के मध्य 5.00 रुपये, 300 से 500 के मध्य 5.50 रुपये व 501 से अधिक बिजली उपभोग करने वालों के लिए 6.00 रुपये प्रति यूनिट की दर निर्धारित है। यह स्लैब प्रतिमाह बिलिंग के लिए निर्धारित हैं।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned