इस तरह गरीब परिवारों को लगी लाखों की चपत, न्याय के लिए धरने पर बैठीं महिलाएं

Arvind Kumar Verma

Publish: Jul, 03 2019 03:01:57 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-गरीबी किसी पर रहम नही करती औऱ गरीब की एक एक मेहनत की कमाई उस के लिए उसकी जीवन की तपस्या होती है। जिस में वह अपना और बच्चों का भविष्य उजागर करने को सोचता है। खासतौर से वो गरीब महिलायें, जो घर का काम करने के बाद मेहनत मजदूरी कर अपनी दिहाड़ी को भविष्य के लिए बचाकर रखते है और जब वो जमा पूंजी कोई डकार जाए तो उन गरीबों पर क्या गुजरती है, कोई नही जानता है। ऐसा ही एक मामला कानपुर देहात जिले के झींझक कस्बे में सामने आया। यहां जमीन पर 27 तारीख से इतनी सारी महिलाएं इंसाफ के लिए बैठी है, जो पुलिस प्रशासन से अब इंसाफ दिलाने की मांग कर रही है।

 

दरअसल पूरा मामला एक चिट फंड कम्पनी (केबीसीएल) से शुरू होता है, जिसने झींझक में अपना आफिस खोलकर क्षेत्र के लोगों को पांच साल में दोगुना रुपया देने की बात कहकर लोगों से रुपये जमा कराए। काफी समय तक उन्होंने अपना जाल फैलाकर लाखों रुपया समेटकर रफूचक्कर हो गए। आरोप है कि झींझक कस्बे के ही एक एजेंट रामपाल द्वारा करीब 100 से ज्यादा महिलाओं से इस कम्पनी में लाखो रुपया लगा दिया गया, लेकिन 3 साल बाद ही यह कम्पनी भाग गयी और इन गरीब महिलाओं का रुपया भी चला गया।

 

आरोप है कि कई बार एजेंट से रुपया दिलाने की बात कही तो उल्टा गाली गलौच व मारपीट करने पर अमादा हो जाता है। पिछले 6 महीनों से महिलाएं पुलिस थाने से लेकर एसपी ऑफिस तक के चक्कर लगा रही है, लेकिन इस कम्पनी के खिलाफ कोई कार्यवाही हुई है, इससे उन्हें न्याय नही मिल रहा है। मजबूरन परेशान होकर इन महिलाओं ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। महिलाओं का कहना है कि अगर सुनवाई नही होगी तो बच्चों के साथ मिलकर भूख हड़ताल कर अनशन पर बैठेगीं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned