प्रियंका के मास्टर स्ट्रोक से हलचल तेज, भाजपा-सपा का बिगड़ सकता खेल

Vinod Nigam

Publish: Mar, 17 2019 08:28:00 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 08:28:01 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। लोकसभा चुनाव से पहले पूर्व मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल के बजाए किसी दूसरे को टिकट दिए जाने की चर्चा थी, लेकिन गांधी परिवार ने अपने पुरानी कांग्रेसी पर भरोसा बरकरार रखा। उन्हें 2019 में पंजे का सिंबल देकर चुनाव के मैदान में उतार दिया है। कई दावेदार के बजाए पूवमंत्री के नाम पर आखरी मुहर प्रियंका गांधी ने लगाई। इसी के बाद भाजपा और बसपा के दावेदार सक्रिय हो गए हैं। लखनऊ और दिल्ली तक की भागदौड़ करने के साथ ही फ्रंटल संगठनों से भी पैैरवी करा रहे हैं। सबसे ज्यादा दावेदार सत्ताधारी दल में हैं तो वहीं अखिलेश यादव भी मजदूरों के शहर में कब्जा करने के लिए चक्रव्यूह बना रहे हैं। ऐसे में कुछ दिन के बाद यहां त्रिकोड़ी मुकाबला देखने को मिल सकता है।

श्रीप्रकाश को मिला टिकट
लोकसभा चुनाव का बिगुल बजते ही कांग्रेस ने पहली ही लिस्ट में पूर्व मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था। जबकि सत्तादल भरतीय जनता पार्टी और त्रिकोणीय मुकाबले में शामिल सपा-बसपा गठबंधन की ओर से कौन प्रत्याशी होगा इसे लेकर संशय बरकरार है। भाजपा में टिकट मांगने वालों की लंबी फेहरिस्त है।इनमें कुछ पूर्व सांसद, कुछ पूर्व व वर्तमान विधायक और पार्टी को सत्ता में लाने के लिए संघर्ष करने वाले पुराने नेता शामिल हैं। सभी नेता अपने करीबियों के संपर्क साध कर टिकट का गुजाड़ लगा रहे हैं। कानपुर-बुंदेलखंड की 10 सीटों के लिए मान फाइनल करने के लिए क्षेत्रीय अध्यक्ष मानवेंद्र ंिसंह दिल्ली पहुंच चुके हैं। जानकारों की मानें तो भाजपा 10 में पांच के टिकट काट सकती है।

डाॅक्टर साहब ने कर दिया बीमार
इस बीच टिकट लेकर कानपुर लौटे पूर्वमंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की और फिर मीडियो से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि कानपुर में एक नहीं कई समस्याएं हैं। पिछले पांच सालों में मेरा शहर ठहरा हुआ है। शायद ऐसा ठहराव कहीं नहीं आया होगा। जब हम यहां से सांसद थे तब मिलें चल रही थीं। कई योजनाएं आखरी दौर पर थीं, लेकिन भाजपा के सत्ता में आते ही वो रोक दी गई। खुद यहां के सांसद डाॅक्टर मुरली मनोहर जोशी सिर्फ उद्घाटन के लिए आते थे और फीता काट कर दिल्ली चले जाते थे। पर हम जब सांसद थे तब जनता के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहते थे।

 

बदलाव की दिख रही बयार
पूर्वमंत्री ने कहा कि कांग्रेस पूरी ताकत के साथ चुनाव के मैदान में उतर चुकी है। प्रियंका गांधी के आने से पार्टी को मजबूती मिली है। देश की जनता बदलाव करनें जा रही है। 23 मई के बाद देश की बागडोर राहुल गांधी के हाथों में होगी। पूर्वमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनते ही कानपुर की बंद मिलें चालू होंगी। बेरोजगारों के लिए रोजगार लाए जाएंगे। कानपुर को फिर से हम खड़ा करेंगे। बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि कभी लोग गोबर का पुल बनाकर स्तुति करते थे कि शायद दस साल में पुल पूरा हो जाए। आज पांच साल उनके शासन के भी हो गए लेकिन पुल तस के तस है।

हारेंगे पूर्वमंत्री
भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी ने माना कि टिकट मांगने वाले लोगों की लंबी लिस्ट है लेकिन कौन प्रत्याशी होगा यह तो पार्टी हाईकमान ही तय करेंगे। जिसे पार्टी टिकट देगी संगठन उसे चुनाव लड़ाने और जिताने के लिए पूरी तरह तैयार है। हां इतना तय हैं कि 2014 की तरह 2019 में पूर्वमंत्री को यहां से हार उठानी पड़ेगी। क्योंकि कानपुर की जनता पीएम मोदी और भाजपा के साथ हैं। बताया, यहां की मिलों को बंद करवाने में अहम किरदार श्रीप्रकाश जायसवाल का है। इनका लिखित बयान संसद में मौजूद हैं। जहां पूर्वमंत्री ने कहा है कि अब लाल इमली सहित अन्य मिलों को नहीं चलाया जा सकता।

पूरी ताकत के साथ लड़ेंगे चुनाव
सपा जिलाध्यक्ष मुईन खान ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जिसे भी प्रत्याशी घोषित करेंगे। सपा और बसपा के कार्यकर्ता उसे पूरी ताकत से लड़ाएंगे और चुनाव जीतेंगे। कहा, पार्टी में आने वाले दिनों में देश और प्रदेश के कई कद्दावर नेताओं की जनसभाएं भी कराने की तैयारी है। बताया कि पार्टी के कार्यकर्ता मतदाताओं के बीच जाकर अपनी बात रख रहे हैं। बताया कि हर बूथ स्तर तक कमेटियां गठित हैं और कार्यकर्ता जनसंपर्क कर रहे हैं। कानपुर में सपा का मुकाबला सीधे भाजपा से है। सपाई पहली बार कानपुर में साइकिल दौड़ाने के लिए कमर कस चुके हैं।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned