Good News: कोरोना संकटकाल में कानपुर शिक्षकों के लिए बड़ी खुशखबरी, विभागीय अफसर की सराहनीय पहल

बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों व कर्मियों के लिए राहत भरी खबर है। शासन के एक फैसले ने शिक्षकों के चेहरे पर मुस्कान ला दी।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 11 May 2021, 10:10 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. कोरोना काल (Corona Virus In UP) के इस संकट की घड़ी के हर कोई परेशानी का सामना कर रहा है। ऐसी मुसीबत की घड़ी जहां माध्यमिक शिक्षा विभाग (Madhyamik Shiksha Vibhag) के हजारों शिक्षक व कर्मियों का वेतन समय से न मिलने के चलते वे समस्याओं से जूझ रहे हैं तो वहीं बेसिक शिक्षा विभाग (Basic Shiksha Vibhag) के शिक्षकों व कर्मियों के लिए राहत भरी खबर है। कानपुर बीएसए (BSA Kanpur) ने ऐसे हजारों शिक्षकों व कर्मियों के लिए अच्छी पहल करते हुए उन्हें बेहद खुशी प्रदान की है। बीएसए बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों व कर्मियों का वेतन व अन्य मद की राशि दिला रहे हैं।

दरअसल चुनावी प्रक्रिया में विभाग के कई शिक्षकों के संक्रमण से मौत की जानकारी पर विभागीय अफसरों ने इस तरह मदद करने की ठान ली। मतगणना के बाद संक्रमित हुए तमाम कर्मियों ने आर्थिक तंगी में घर के रहकर अपना इलाज किया। ऐसे हालातों की जानकारी पर बीएसए ने सभी शिक्षकों को वाट्सएप से सूचना दी कि जिस शिक्षक का जो भी देयक विभाग में बाकी हो वह मैसेज कर दे। इस पर दो-तीन दिनों के अंदर ही बीएसए के पास लगभग 300 शिक्षकों ने अपने देयकों का मैसेज भेजा है। जिस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए वह सभी को वेतन व अन्य मद की राशि मुहैया कराई जा रही है।

बीएसए डॉ.पवन तिवारी ने कहा कि वह महामारी में अगर किसी की व्यक्तिगत मदद नहीं कर सकते तो कम से कम इसी तरह सहायता कर रहे हैं। ऐसे में शासन के एक फैसले ने उन शिक्षकों के चेहरे पर मुस्कान ला दी, जिन्होंने कुछ दिनों पहले ही ज्वाइनिंग ली थी। 69000 शिक्षक भर्ती में जिले के लगभग 300 शिक्षकों को शासन से पहली सैलरी भेजी गई तो उनकी खुशी का ठिकाना नही रहा। हालांकि इन शिक्षकों की जानकारी भी शासन से मांगी गई थी।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned