51 सौ देने के बाद ही शहीद के शव का होगा दाह सस्कार !

Vinod Nigam

Updated: 22 Jun 2019, 08:20:01 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। प्रदेश की जनता ने सत्ता बदल दी, लेकिन सरकार ने सरकारी सिस्टम में बैठे भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कोई ठोंस कदम नहीं उठाए। जिसके कारण सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों में आज भी रिश्वतखोरी जारी है। ताजा मामला शिवराजपुर स्थित खेरेश्वर श्मशान घाट में सामने आया है। यहां वायू सेना के सैन्य अफसर की हादसे में मौत के बाद उनके शव को दाह संस्कार के लिए लाया गया। सरकारी मुलाजिमों और सत्ताधारी दल के विधायक की मौजूदगी में पंडे ने शहीद के परिजनों से 51 सौ रूपए बतौर दक्षिणा मांगी। कुछ लोगों ने विरोध किया तो अन्य पंड़ा एकसाथ आ गए। पंडों की करतूत से भाजपा विधायक आग बबूला हो गए और पुलिस व अफसरों को जमकर फटकार लगाते हुए पंडे को तत्काल गिरफ्तार करा थाने भिजवा दिया।

हादसे में सैन्य अफसर की मौत
भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान जो तीन जून को अरुणांचल प्रदेश में लापता हो गया था। जिसमें कानपुर के बिल्हौर इलाके में स्थित उत्तरीपुरा निवासी वारंट अफसर कपिलेश कुमार मिश्रा समेत 13 वायुसेना के अफसर मौजूद थे। आठ जून को लापता विमान का मलबा देखा गया और इसके बाद सर्च आपरेशन के बाद शवों को घाटी से निकालते हुए उनके घर भेजने की प्रक्रिया शुरु हुई। शुक्रवार को जनपद के वांरट अफसर कपिलेश का पार्थिव शरीर उनके पैतृक घर पहुंचा। जहां परिजनों व स्थानीय विधायक भगवती सागर, प्रशासनिक अफसरों के साथ भारी भीड़ के अंतिम दर्शन के बाद अंतिम यात्रा निकली।

ये तो देना ही पड़ेगा
कपिलेश मिश्रा का पार्थिव शरीर शिवराजपुर स्थित खेरेश्वर घाट पहुंचा। जहां पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार की तैयारियां शुरु की गई। इस बीच वहां मौजूद अवैध पंडे ने तिरंगे झंडे में लिपटे जवान के पार्थिव शरीर को देखने के बावजूद क्रिया कर्म के लिए 51 सौ रुपये की मांग कर दी। यह सुनकर मौजूद लोग भड़क गए। इस बीच अन्य पंडे आ गए और दाह संस्कार से पहले पैसे देने की मांग पर अड़ गए। विधायक ने पहले पुलिस व प्रशासन के अफसरों को लताड़ा फिर पंडे का कालर पकड़ कर उसे बाहर लेकर आए और पुलिस के हवाले कर मुकदमा दर्ज कर जेल भेजे जाने का आदेश दिया। इसके बाद शहीद कपिलेश मिश्रा के पार्थिव शरीर को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई।

सीएम से करेंगे शिकायत
विधायक ने इस मामले पर एसडीएम बिल्हौर से पूरे मामले की जानकारी ली और बताया कि अंतिम संस्कार के लिए किसी भी तरह का शुल्क लेना का कोई नियम ही नहीं है। भाजपा विधायक भगवती सागर ने एसडीएम से कहा कि घाट पर अवैध पंडे का गोरखधंधा चल रहा है। इसको लेकर जांच करते हुए कार्रवाई करें। इसके अलावा भाजपा विधायक ने डीएम से भी बातचीत कर जिले के अन्य घाटों में दाह संस्कार के दौरान पंडो की उगाही पर रोक लगाए जाने को कहा। भाजपा विधायक ने कहा हम इस मामले की शिकायत सीएम योगी आदित्यनाथ से करेंगे।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned