scriptCourt decision: Seven including father-son life imprisonment for murder | अदालत का निर्णय: हत्या के जुर्म में पिता-पुत्र सहित सात को आजीवन कारावास की सजा | Patrika News

अदालत का निर्णय: हत्या के जुर्म में पिता-पुत्र सहित सात को आजीवन कारावास की सजा

हत्या के मामले में अदालत ने पिता-पुत्र सहित सात अभियुक्तों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। लगभग 13 साल की सुनवाई के बाद अदालत का निर्णय आया। इस दौरान एक आरोपी ने तो एलएलबी की पढ़ाई करके वकालत भी शुरू कर दी। लेकिन वकालत की पढ़ाई भी उसे सजा से नहीं बचा सका।

कानपुर

Published: April 16, 2022 08:00:23 pm

हत्या के मामले में अदालत ने लगभग 13 साल की लंबी सुनवाई के बाद पिता-पुत्र सहित 7 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इसके साथ ही 11 लाख से ज्यादा का जुर्माना भी लगाया। शासन ने उपरोक्त मामले को मिशन शक्ति के अंतर्गत चयनित करते हुए निस्तारित करने और दोषियों को सजा दिलाने का आदेश जारी किया था। जिसके बाद मिशन शक्ति के अंतर्गत महिलाओं से जुड़े मामले की सुनवाई त्वरित गति से हो रही है। इसी के अंतर्गत उपरोक्त निर्णय सुनाया गया है।

अदालत का निर्णय: हत्या के जुर्म में पिता-पुत्र सहित सात को आजीवन कारावास की सजा

मामला कानपुर देहात के चौबेपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत एक गांव का है। वर्ष 2009 में ऐसी घटना घटी किसकी लड़ाई लगभग 14 साल चली। 2009 में गांव के ही रहने वाली युवती का रावेंद्र ने अपहरण कर लिया था। इस संबंध में पीड़िता की मां चौबेपुर थाना में मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपी की तरफ से पीड़ित परिवार को धमकी मिल रही थी कि पैरवी न करें। पैरवी से रोकने के लिए आरोपी राजेंद्र व उसके परिवार के अन्य सदस्यों ने बीते 18 जुलाई 2009 को पीड़िता के घर में घुसकर मारपीट की। शोर-शराबा सुनकर पड़ोसी भी मौके पर पहुंच गए। जिसके बाद हमलावर आरोपी मौके से भाग निकले।

पुलिस से शिकायत करने जा रहे थे रास्ते में हुआ हमला

घटना के संबंध में पीड़ित परिवार चौबेपुर पुलिस से शिकायत करने के लिए जा रहे थे कि रास्ते में एक बार फिर आरोपी दबंगों ने पीड़ित परिवार पर हमला बोल दिया। जिससे एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। जबकि अन्य कई घायल हो गए थे। इस संबंध में मृतक परिवार की तरफ से रामदयाल, उसका पुत्र धर्मेंद्र उर्फ पप्पू, राजू उर्फ राजीव, रामु उर्फ के साथ सलीम उर्फ गब्बर, हरिराम, रावेंद्र तहरीर देते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपी परिवार ने यहां सीबीसीआईडी से जांच कराने की मांग की। सीबीसीआईडी की जांच और अदालत में बहस के बाद यह निर्णय निकल कर आया।

सजा के साथ 11.32 लाख रुपए का जुर्माना भी लगा

बीते शुक्रवार को न्यायालय ने नामजद सभी अभियुक्तों पर दोष सिद्ध करते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इस संबंध में जिला शासकीय अधिवक्ता राजू पोरवाल व सीबीसीआईडी अभियोजन अधिकारी नागेश दीक्षित ने बताया कि अदालत ने उपरोक्त निर्णय में सभी सात आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है इसके साथ ही 11.32 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने की स्थिति में 3 साल का अतिरिक्त कारावास काटना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें

बीमारी से ग्रसित पीयूष जैन को अदालत से बड़ा झटका, अर्जी हुई खारिज

कानून से बचने के लिए कानून की पढ़ाई की

अदालत की लंबी सुनवाई का फायदा और कानूनी दांवपेच कानूनी दांवपेच सीखने के लिए रामु उर्फ रामेंद्र ने एलएलबी की पढ़ाई शुरू कर दी। सुनवाई के दौरान रामू ने वकालत पास की और माती स्थित जनपद न्यायालय में वकालत की प्रैक्टिस शुरू कर दी। लेकिन कर्मों की सजा से बच नहीं पाया और अदालत ने रामू को भी आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारकौन हैं IAS अधिकारी कीर्ति जल्ली, जो असम के बाढ़ प्रभावितों को बचाने के लिए खुद कीचड़ में उतरींमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.