क्रिकेटर Kuldeep Yadav के वैक्सीनेशन मामले ने पकड़ा तूल, डीएम ने सीएमओ और सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपी जांच

टीम इंडिया के क्रिकेटर Kuldeep Yadav के कोरोना वैक्सीनेशन का मामला सुर्खियों में है। कहा जा रहा है कि कुलदीप यादव ने जिस वैक्सीन सेंटर में स्लॉट बुक कराया था, वहां पर न लगवाकर कहीं और लगवाई है। मामले में कानपुर जिलाधिकारी ने सीएमओ और सिटी मजिस्ट्रेट को जांच सौंपी है।

By: Hariom Dwivedi

Published: 17 May 2021, 12:48 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. क्रिकेटर कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) टीम इंडिया के चाइनामैन गेंदबाज हैं। कुलदीप ने शनिवार को कानपुर में कोरोना का टीका (Corona Vaccination) लगवाया था। फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर की। लिखा, कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है। उनके वैक्सीन लगवाने की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही हंगामा मच गया। मामले में कानपुर के जिलाधिकारी आलोक तिवारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) डॉ नेपाल सिंह और सिटी मजिस्ट्रेट हिमांशु गुप्ता को जांच सौंपी है।

कुलदीप यादव ने कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए स्लॉट बुक कराया था। उन्हें Kanpur के गोविंदनगर जागेश्वर अस्पताल में स्लॉट मिला था। लेकिन, सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर नगर निगम गेस्ट हाउस की बताई जा रही है। मामले में डीएम ने जांच बिठा दी है। और पूछा है कि वैक्सीनेशन सेंटर से वैक्सीन बाहर निकल कर गई कैसे? वो कौन लोग हैं, जो वैक्सीन लगाने के लिए गेस्ट हाउस पहुंचे थे? वैक्सीनेशन के दौरान नियमानुसार, वहां डॉक्टरों का पैनल मौजूद था या नहीं? सीएमओ और सिटी मजिस्ट्रेट इन सभी सवालों के जवाब खंगाल रहे हैं।

यह भी पढ़ें : प्लाज्मा थेरेपी क्या है, क्या हैं इसके फायदे व नुकसान

कोरोना वैक्सीन प्रोटोकाल के हुआ उल्लंघन?
कुलदीप यादव को कोरोना का टीका लगाने के लिए कोरोना वैक्सीन प्रोटोकाल (Vaccin Protocol) के उल्लंघन की बात कही जा रही है। अस्पतालों में वैक्सीनेशन के बाद करीब 30 मिनट तक ऑब्जर्वेशन रूम में बिठाया जाता है। ताकि, किसी प्रकार की दिक्कत होने पर उसका उपचार किया जा सके। लेकिन, क्रिकेटर को जहां वैक्सीन लगवाई गई वहां पर ऐसी व्यवस्था थी कि नहीं, इसकी जांच की जा रही है।

दोषी कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई
अस्पताल में वैक्सीन सेंटर (Vaccine Centre) की व्यवस्था की गई है। यदि वैक्सीन कोरोना का टीका लगवाने के बाद किसी को किसी प्रकार के दिक्कत समस्या होती है, तो उसका उपचार किया जा सके। लेकिन भारतीय टीम के गेंदबाज कुलदीप यादव ने जहां पर वैक्सीन लगवाई है, वहां पर अस्पताल था कि नहीं, इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है। डीएम द्वारा गठित टीम जांच रिपोर्ट में इन सभी बातों का खुलासा हो पाएगा। साथ ही यह भी पता चल सकेगा कि किस वैक्सीन सेंटर से वैक्सीन कुलदीप यादव के लिए गई थी। कौन-कौन से कर्मचारी वैक्सीनेशन करने गये थ। जांच में दोषी पाये जाने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : रेमडिसिविर को लेकर क्यों मची है अफरातफरी? इस दवा के बारे में जानें वह सब जो जानना चाहते हैं आप

Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned