शहर के ये बाहरी इलाके बन रहे अपराधियों का सॉफ्ट टारगेट

शहर के ये बाहरी इलाके बन रहे अपराधियों का सॉफ्ट टारगेट

Alok Pandey | Updated: 23 Sep 2019, 01:14:22 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

नौबस्ता, चकेरी और कल्याणपुर में अपराध बढ़े
बादशाहीनाका, कैंट और अर्मापुर में रही शांति

कानपुर। शहर के कई पॉश इलाके भी अब सुरक्षित नहीं हैं। खुली जगह और तेजी से विकसित हो रहे इन स्थानों पर बढ़ रहे अपराधों के कारण यहां रहने वाले लोगों में डर पनपने लगा है। हत्या, लूट, दुष्कर्म, छेड़छाड़ और चोरी की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। खासतौर पर चकेरी और कल्याणपुर के साथ-साथ नौबस्ता में क्राइम रेट सबसे ऊपर है। यहां साल भर में अब तक नौ सौ से ज्यादा अपराधिक घटनाएं हो चुकी हैं। जबकि दूसरी ओर बादशाहीनाका और कैंट एरिया में घटनाएं एक सैकड़ा से कम हैं।

डराने लगे आंकड़े
1 जनवरी 2019 से 22 सितंबर तक थानों में दर्ज एफआईआर के मुताबिक करीब नौ माह में नौबस्ता थाने में सबसे ज्यादा अपराध हुए हैं। यहां पर इस साल अब तक 982 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। दूसरे नंबर पर चकेरी में 958 मुकदमे कल्याणपुर में 932, घाटमपुर में 823 और बर्रा थाने में 647 मुकदमे दर्ज हुए हैं। ये इलाके सबसे ज्यादा खतरनाक हैं। क्राइम चार्ट के आंकड़ों के अनुसार सुरक्षित थानाक्षेत्रों के मुकाबले यहां अपराध का ग्राफ करीब दस गुना से भी ज्यादा है। शहर के बाहरी इलाकों में हाईवे से लगे होने की वजह से अपराधी इसका सबसे ज्यादा फायदा उठाते हैं। वे वारदात को अंजाम देकर आसानी से फरार हो जाते हैं।

पॉश इलाकों में बढ़ खतरा
शहर के काकादेव, नवाबगंज, तिलकनगर, पांडु नगर, विकास नगर और आर्य नगर जैसे पॉश इलाको में खतरा बढ़ गया है। इन इलाकों में बंगले ज्यादा हैं और आबादी कम। इस कारण सड़कों पर दिन में भी लगभग सन्नाटा ही रहता है और रात में तो सन्नाटा और बढ़ जाता है। जिस कारण चेन लूट और छेडख़ानी जैसे अपराध आए दिन सामने आ रहे हैं। दक्षिण के किदवईनगर, गोविंदनगर और नौबस्ता इलाके का भी यही हाल है।

घनी आबादी वाले इलाके सुरक्षित
शहर के घनी आबादी वाले इलाकों में अपराध कम हैं। इसके पीछे आबादी का ज्यादा होना भी एक कारण है। सड़क पर हमेशा आवाजाही रहती है और लगभग हर घर के चबूतरे या छज्जे पर कोई न कोई दिन भर से लेकर देर शाम तक बैठा ही मिलता है। ऐसे में अपराधी इन इलाकों में वारदात करने से कतराते हैं। उन्हें पहचाने और पकड़े जाने का डर बना रहता है।

इस साल अब तक हुए अपराध
इस साल जनवरी से लेकर अब तक नौबस्ता में ९८२, चकेरी में ९५८, कल्याणपुर में ९३२ और घाटमपुर में ८२३ वारदाते हुईं। जबकि बर्रा में ६४७, बिधनू में ५४९, बिल्हौर में ५०१, सचेंडी में ४००, पनकी में ३८७, चमनगंज में ३८०, महाराजपुर में ३२४, सजेती में ३१५, काकादेव में ३१३, रेलबाजार में २९६, बिठूर में २७४, बादशाहीनाका में ७८, सीसामऊ में ९५, कोहना में ९३, कैंट में ८७ और अर्मापुर में ३७ वारदातें अब तक हुई हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned