घर में ही उगाइए मौसमी सब्जियां, सीएसए के वैज्ञानिक दो घंटे में देंगे ट्रेनिंग

शहरियों के लिए आर्गेनिक सब्जी के वैज्ञानिकों ने बनाए चार मॉडल
सुरक्षित रहेगी फसल, नहीं होगा कीट पतंगों से सब्जियों को नुकसान

कानपुर। अगर सब्जी मंडी आपके घर से दूर है, या फिर आपको मंडी में भी ताजी सब्जी नहीं मिलती है तो आप अपने घर पर ही जरूरत भर की सारी मौसमी सब्जियां उगा सकते हैं। बस आपके पास घर में थोड़ी खाली जगह होना आवश्यक है। इसके लिए सीएसए विवि के सब्जी विज्ञान विभाग के वैज्ञानिकों ने कई मॉडल तैयार किए हैं, जिससे घर में सब्जी की खेती करना बेहद आसान होगा। महज दो घंटे की ट्रेनिंग में आप सब्जी उगाने का तरीका भी सीख सकते हैं।

आर्गेनिक खेती का मॉडल छाया रहा
चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में लगे किसान मेला प्रदर्शनी में सब्जी विज्ञान विभाग के मॉडल सबसे ज्यादा पसंद किए गए। यहां लगाया गया आर्गेनिक खेती का मॉडल को देखने के लिए भारी भीड़ जुटी। वैज्ञानिकों ने किसानों को मौसम के हिसाब से एकीकृत कृषि मॉडल की जानकारी दी। इस मॉडल में बागवानी से लेकर अनाज की खेती के मॉडल शामिल थे।

शहरियों के लिए सब्जी उगाने का मॉडल
सब्जी विज्ञान विभाग के डॉ. आईएम शुक्ला ने बताया कि हर घर में सुरक्षित सब्जी उपलब्ध कराने पर जोर दिया जा रहा है। इसके लिए खासतौर से शहरियों के लिए नए मॉडल बनाए गए हैं। इस मॉडल को अपनाकर परिवार के चार सदस्यों के जरूरत भर की आर्गेनिक सब्जी पैदा की जा सकती है। सोआ, मेथी, पालक, लहसुन, टमाटर, बैगन, राजमा, प्याज, लोबिया, शिमला मिर्च, भिंडी, लौकी, कद्दू आदि अलग-अलग सीजन में एक साथ कैसे ले सकते हैं? इसके अलग अलग मॉडल हैं। यह मॉडल पूरी तरह सुरक्षित कृषि पर आधारित होगा यहां तक कीट पतंगों का भी हमला नहीं हो सकेगा।

जी-९ केले की खेती से लाखों की कमाई
केले की खेती से किसानों को लाखों की कमाई हो रही है, यही वजह है कि यहां केले की खेती का ट्रेंड बढ़ा है। जिला उद्यान एवं प्रसंस्करण विभाग के स्टाल जी-9 केले के वेराइटी के बारे में जानने को किसान अधिक उत्सुक थे। यह केला सामान्य केले की अपेक्षा एक इंच डायमीटर और लम्बाई में अधिक होता है। किसानों को चार से पांच लाख रुपए प्रति हेक्टेयर फायदा होता है।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned