सीएसजेएमयू का बड़ा फैसला - अंतिम वर्ष के छात्रों को इन विषय में मिलेगा बहुविकल्पीय पेपर

- कोविड-19 के कारण पेपर के पैटर्न में बदलाव

 

By: Narendra Awasthi

Published: 03 Dec 2020, 10:44 AM IST

कानपुर. कोविड-19 ने विश्वविद्यालय की परीक्षाओं का पैटर्न भी बदल दिया। अब स्नातक के अंतिम वर्ष के पेपर में बहुविकल्पीय की संख्या अधिक रहेगी। छत्रपति शाहूजी महाराज यूनिवर्सिटी परीक्षा नियंत्रक द्वारा लिए गए निर्णय से छात्रों को काफी राहत महसूस होगी। सत 2020-21 के पूर्व अंतिम वर्ष में बहुविकल्पीय के रूप में एक पेपर होता था। जिसकी संख्या बढ़ाई जा रही है। इस संबंध में विश्वविद्यालय परीक्षा नियंत्रक डॉक्टर अनिल कुमार यादव ने बताया कि बीए-बीएससी छात्र-छात्राओं के लिए फाइनल ईयर में अब दो बहुविकल्पीय पेपर दिए जा रहे हैं। इस संबंध में सभी कालेजों को जानकारी दी जा रही है कि पाठ्यक्रम के अनुसार छात्रों को पढ़ाई कराई जाए।

 

बीएससी अंतिम वर्ष के बहुविकल्पीय पेपर

बीएससी अंतिम वर्ष के वनस्पति विज्ञान का द्वितीय और तृतीय प्रश्न पत्र बहुविकल्पीय होगा। इसी के साथ बीएससी रसायन विज्ञान का प्रथम और द्वितीय, गणित का प्रथम और तृतीय, भौतिक विज्ञान का प्रथम और द्वितीय, जंतु विज्ञान का प्रथम और द्वितीय पेपर बहुविकल्पीय होगा।

बीकॉम में निम्न पेपर होंगे बीकॉम में निम्न पेपर होंगे

जबकि बीकॉम का ऑडिटिंग का द्वितीय पेपर, मनी एंड फाइनेंस का तृतीय, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का चतुर्थ पेपर बहुविकल्पीय होगा।

B.a. के निम्न पेपर होंगे बहुविकल्पीय

परीक्षा नियंत्रक के अनुसार बीए अर्थशास्त्र का प्रथम और द्वितीय पेपर, शिक्षा शास्त्र का प्रथम और द्वितीय पेपर, अंग्रेजी साहित्य का प्रथम और तृतीय पेपर, भूगोल का प्रथम और द्वितीय पेपर, हिंदी साहित्य का द्वितीय और तृतीय पेपर, इतिहास का द्वितीय और तृतीय पेपर, गृह विज्ञान का द्वितीय पेपर, राजनीति विज्ञान का द्वितीय और तृतीय पेपर, संस्कृत का प्रथम और द्वितीय पेपर, समाजशास्त्र का द्वितीय और तृतीय पेपर, उर्दू का द्वितीय और तृतीय पेपर बहुविकल्पीय होगा।

Show More
Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned