सीएसजेएम यूनिवर्सिटी : पीएचडी के लिए और बढ़ा छह साल का इंतजार

सीएसजेएम यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने की इच्छा रखने वाले मेधावियों का इंतजार लंबा होता जा रहा है. छह साल बीत जाने के बाद भी पीएचडी कराने को लेकर जारी किए गए निर्देशों को सीएसजेएमयू लागू नहीं कर पाया है.

By: आलोक पाण्डेय

Published: 18 Jul 2018, 12:53 PM IST

कानपुर। सीएसजेएम यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने की इच्छा रखने वाले मेधावियों का इंतजार लंबा होता जा रहा है. छह साल बीत जाने के बाद भी पीएचडी कराने को लेकर जारी किए गए निर्देशों को सीएसजेएमयू लागू नहीं कर पाया है. यूनिवर्सिटी ने सिर्फ आर्डिनेंस बनाने में ही पांच साल बर्बाद कर दिए. चारों तरफ से किरकिरी होने पर जैसे-तैसे आर्डिनेंस बना तो उसे राजभवन और शासन से हरी झंडी नहीं मिल पाई है. लापरवाही के इस पूरे खेल में सिर्फ स्टूडेंट्स का भविष्य खराब हो रहा है.

भेज दिया था वापस
यूनिवर्सिटी ने करीब एक साल पहले आर्डिनेंस को राजभवन भेजा था. कुलाधिपति ने आर्डिनेंस को पहले शासन से अप्रूव कराकर लाने की बात कहकर उसे यूनिवर्सिटी को वापस भेज दिया था. जिसपर करीब तीन महीने पहले यूनिवर्सिटी ने शासन को पीएचडी ऑर्डिनेंस अप्रूवल के लिए भेजा था, लेकिन अभी तक शासन से भी ऑर्डिनेंस को अप्रूवल नहीं मिला है. जिसके चलते स्कॉलर्स अपना रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाएंगे.

अभी तक नहीं मिला है अप्रूवल
सीएसजेएमयू ने पीएचडी आर्डिनेंस इयर एकेडमिक काउंसिल में पास करवाकर कार्य परिषद में पास कराया था. सीएसजेएमयू ने इयर 2017 में पीएचडी ऑर्डिनेंस पास कराने के लिए राजभवन भेज दिया था. राजभवन ने इस ऑर्डिनेंस को यह कमेंट लिखकर वापस कर दिया कि पहले शासन से अप्रूवल लिया जाए. इसके बाद मई 2018 में पीएचडी ऑर्डिनेंस अप्रूवल के लिए शासन के पास भेजा गया था. तीन महीने गुजर जाने के बाद भी शासन से अभी तक ऑर्डिनेंस को अप्रूवल नहीं मिला है.

ऐसा कहना है अधिकारी का
सीएसजेएमयू के रजिस्ट्रार डॉ. वीके सिंह इस बारे में कहते हैं कि पीएचडी ऑर्डिनेंस को लेकर शासन से जल्द ही अप्रूवल मिल जाएगा. इसके बाद राजभवन में कुलाधिपति के पास पीएचडी ऑर्डिनेंस पास होने के लिए भेजा जाएगा. उम्मीद है कि जल्द ही पीएचडी शुरू कराने के लिए प्लान बनाया जाएगा.

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned