एक साथ नहीं अलग-अलग रैली करेंगे अखिलेश- मायावती

एक साथ नहीं अलग-अलग रैली करेंगे अखिलेश- मायावती

Vinod Nigam | Publish: Apr, 24 2019 09:20:01 AM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

रमईपुर में दोनों नेताओं की एकसथ होनी थी जनसभा, लेकिन अब अखिलेश यादव सपा के उम्मीदवार राजकुमार निषाद के लिए जीआईसी मैदान में करेंगे रैली।

कानपुर। बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा प्रमुख अलिखेश बुधवार को एक मंच के बजाए अगल-अगल सभा करनें के लिए कानपुर आएंगे। रमईपुर में मायावती तो जीआईसी मैदान में अखिलेश चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। 24 घंटे पहले आए संदेश के बाद दोनों दलों के अंदर हलचल तेज हो गई है। सभा को सफल बनाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्यकर्ता जुटे हैं।

रमईपुर में मायावती भरेंगी हुंकार
अपने पुरानें किले पर कब्जे के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती और अखिलेश यादव ने कमर कस ली है। यहां की 10 सीटों पर कब्जे के लिए दोनों नेता ताबड़तोड़ रैली व रोड शो कर जीत की नींव रखेंगे। 24 अप्रैल को बसपा सुप्रीमो मायावती और अखिलेश यादव अकबरपुर लोकसभा सीट फतह करने के लिए रमईपुर में रैली करनें के लिए आ थे, लेकिन ऐन वक्त पहले सपा प्रमुख की सभा जीआईसी मैदान में होने की खबर से पदाधिकारियों के अंदर हड़कंप मच गया। अब दोपहर में मायावती अकबरपुर उम्मीदवार निशा सचान के लिए चुनावी हुंकार भरेंगी तो वहीं अखिलेश राजकुमार निषाद के लिए वोट मांगेगे।

भीड़ जुटाने के लिए लगे कार्यकर्ता
मायावती की रैली को सफल बनाने के लिए बसपा पदाधिकारी घाटूखेड़ा, निहालपुरवा, सगुनियापुरवा, तेजीपुरवा, प्रेमपुरवा, मगरासा, ओरियारा, रमईपुर सहित अन्य गांवों भीड़ जुटाने के लिए कार्यकर्ता बैठकें कर रहे है। कहा गया है कि पिछले चुनाव में मायावती की रैलियों में होने वाली भीड़ से चार गुना लोग यहां दिखने चाहिए। लोगों की भीड़ ही गठबंधन की ताकत का प्रदर्शन करेगी। बसपा ने इसलिए रमईपुर को चुना है, क्योंकि ये इलाका कानपुर नगर सीट से लगने के साथ ही हमीरपुर, फतेहपुर और कानपुर देहात की सीटों पर पार्टी प्रमुख सीधे संदेश दे सकेंगी।

सपा के गढ़ पर गरजेंगी मायावती
कानपुर बुंदेलखंड में 10 लोकसभा सीटें है। सपा-बसपा गठबंधन में समाजवादी पार्टी के खाते में 5 लोकसभा सीटें है, जिसमें से कन्नौज, इटावा, कानपुर, झांसी, बांदा लोकसभा सीटें शामिल है। मिश्रिख,फर्रुखाबाद ,अकबरपुर, जालौन, हमीरपुर लोकसभा सीटें पर बसपा ने उम्मीदवार उतारे हैं। कानपुर-बुंदेलखंड में चैथे चरण में 29 अप्रैल को वोटिंग होनी है। 24 को कानपुर तो 25 अप्रैल को बसपा सुप्रीमों मायावती और अखिलेश यादव कन्नौज में संयुक्त रैली करेंगे। सपा नगर अध्यक्ष मुईन खान ने बताया कि दोनों प्रमुखों ने बातचीत के बाद तय हुआ है कि मायातवी रमईपुर तो अखिलेश कानपुर नगर सीट पर कब्जे के लिए हुंकार भरेंगे।

हमीरपुर में भरेंगी हुंकार
26 अप्रैल को मायावती हमीरपुर लोकसभा सीट पर जनसभा को संबोधित करेंगी। हमीरपुर से दिलीप कुमार सिंह बसपा प्रत्याशी हैं। हमीरपुर सीट पर ं 1999 और 2009 बसपा का कब्जा रहा है। बसपा ने दिलीप कुमार सिंह को कैंडिडेट बनाकर क्षेत्रीय समेत वोटरों के साथ ही जनरल कैटेगरी को भी साधने का प्रयास किया है। बतादें 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने कानपुर-बुंदेलखंड की 10 लोकसभा सीटों में से 9 सीटों पर जीत दर्ज की थी. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में कानपुर बुंदेलखंड की 52 विधानसभा सीटों में से बीजेपी ने 47 सीटें जीती थीं। इस जीत के बाद कानपुर बुंदेलखंड बीजेपी का सबसे मजबूत किला बन गया.।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned