Breaking : शौचालय बनवाने को कहा तो जिंदा जला दिया, प्रधानपति सहित दो अरेस्ट

 Breaking : शौचालय बनवाने को कहा तो जिंदा जला दिया, प्रधानपति सहित दो अरेस्ट
Kanpur Dehat

मामला कानपुर देहात के रूरा थाना क्षेत्र के इन्जुआ रामपुर का है, अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि मामला गम्भीर और संदिग्ध है। मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। पूछ्ताछ की जा रही है। 

कानपुर देहात. शौचालय के लिए प्रधानपतिपति पैसे दिए थे फिर भी शौचालय नहीं बना तो युवक ने कहा कि या तो मेरा शौचालय बनवा दो या फिर मेरे पैसे दे दो। आरोप है कि प्रधानपति ने अपने गुर्गों के साथ पहले उस युवकी की जमकर पिटाई की, फिर उस पर केरोसिन डालकर आग के हवाले कर दिया। आनन फानन में एम्बुलेंस बुलाकर बुरी तरह झुलसे युवक को कानपुर रेफर किया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मृतक के परिजनों की तहरीर पर दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

मामला कानपुर देहात के रूरा थाना क्षेत्र के इन्जुआ रामपुर का है। गांव निवासी बृजमोहन चौकीदार कर अपना परिवार चलाता था। आरोप है कि बीते दिनों गांव के दबंग प्रधानपति राजेश ने यहां के लोगों से शौंचालय दिलवाने के नाम पर धन उगाही की थी, लेकिन काफी समय तक शौचालय न मिलने पर ब्रज मोहन ने अपने पैसों की वापसी के लिए प्रधानपति से कहा। उसने कहा कि जब शौचालय नहीं बनवा सकते तो मेरे पैसे वापस कर दो। दबंग प्रधानपति राजेश ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर बृजमोहन 35 वर्ष को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया। इतना ही नहीं परिजनों के मुताबिक़ जब पिटाई करने के बाद भी दबंग प्रधानपति का दिल नहीं भरा तो उसने केरोसिन डालकर राजेश को जिन्दा जला दिया।

युवक को जिंदा जला दिया
आग की लपटों में घिरा चौकीदार चीखता-चिल्लाता रहा, लेकिन कोई उसकी मदद के लिये आगे नहीं आया। गंभीर रूप से झुलसे राजेश को तत्काल जिला अस्पताल अकबरपुर और उसके बाद उसे कानपुर रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मौत की सूचना मिलते ही गांव में सन्नाटा छा गया, लेकिन दबंग प्रधानपति की वजह से इस मामले में सभी चुप्पी साधे हुये हैं। बताया गया कि दबंग ग्राम प्रधानपति की दहशत पूरी इलाके में इस कदर है कि उसके खिलाफ कोई भी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है, वहीं मृतक के परिजनों में भय व्याप्त है।


देखें वीडियो

बृजमोहन पर था घर का जिम्मा
बृजमोहन के पिता की मौत होने के बाद उसका भाई शिव नरायण करीब दो साल से लापता है। इसके बाद उस पर मां ममता, पत्नी विनीता, तीन बेटियां व दो बेटों का भार था, जिसे वह चौकीदारी करके निभा रहा था। रोते-बिलखते मां कह रही थी कि अब घर कौन संभालेगा और बेटियों की शादी कैसी होगी। ग्रामीणों के अनुसार बृजमोहन के कुछ परिजनों ने प्रधानपति के मामले में लिप्त न होने की बात कहते हुये साफ इनकार कर दिया है कि प्रधानपति पति की कोई भूमिका नही हैं। गांव के रामेंद्र ने घटना को अन्जाम दिया है, वहीं कुछ परिजन प्रधानपति पर हत्यारोपी की मदद करने का आरोप लगा रहे हैं।  फिलहाल पुलिस ने प्रधानपति राजेश और रामेंद्र को हिरासत में ले लिया है। 

अपर पुलिस अधीक्षक बोले
अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि मामला गम्भीर और संदिग्ध है। मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। पूछ्ताछ की जा रही है। पुलिस दोषियों को नहीं बख्शेगी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned