डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पहुंचे कानपुर, चुनाव और विकास कार्यो पर करेंगे मंथन

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पहुंचे कानपुर, चुनाव और विकास कार्यो पर करेंगे मंथन

Vinod Nigam | Publish: Jun, 13 2019 01:32:21 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

डिप्टी सीएम के स्वागत में भाजपा पदाधिकारियों के साथ ही जिले के अलाधिकारी रहे मौजूद, लोकसभा चुनाव के बाद आए कानपुर, विकास कार्यो को लेकर करेंगे सवाल-जवाब।

कानपुर। लोकसभा चुनाव में मिली एतिहासिक जीत के बाद कानपुर के प्रभारी मंत्री व यूपी के डिप्टी सीएम गुरूवार की दोपहर करीब साढ़े बारह बजे शहर पहुंचे। जहां उनकी आगवनी भाजपा के पदाधिकारी और पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों ने की। डिप्टी सीएम यहां अधिकारियों के साथ विकास कार्यो को लेकर चर्चा करेंगे साथ ही 12 सीटों में होने वाले उपचुनाव को लेकर पदाधिकारियों के साथ मंथन करेंगे। बतादें, लोकसभा चुनाव में विधायक सत्यदेव पचौरी, मानिकपुर से विधायक आरके पटेल और हमीरपुर से भाजपा विधायक को सजा होने के बाद मतदान होना हैं।

10 पर खिला कमल
पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया कि पार्टी में इस समय माहौल बहुत अच्छा है। कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र की सभी 10 सीटों पर भाजपा ने अपना परचम लहराया। इससे पहले विधानसभा चुनाव में भी पार्टी का प्रदर्शन शानदार रहा था, इसलिए इस उपचुनाव सीट पर पार्टी चाहेगी कि यहां भी कमल खिले। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के सामने उपचुनाव वाली सीट पर जो समीकरण हैं, उनको वरिष्ठ पदाधिकारी साझा कर सकते हैं। गोविंदनगर, हमीरपुर सदर और मानिकपुर सीट पर कानपुर-बुंदेलखंड के क्षेत्रीय अध्यक्ष मानवेंद्र सिंह के साथ चुनाव को लेकर तैयारियों के बारे में जानकारी ले सकते हैं।

दावेदार सक्रिय
उपचुनाव में टिकट के दावेदार भी डिप्टी सीएम के स्वागत के बहाने अपना चेहरा दिखाने के लिए सारी तैयारियां पूरी कर ली हैं। भाजपा उत्तर जिलाध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी ने कहा कि सभी कार्यकर्ता व पदाधिकारी उनका भव्य स्वागत करेंगे। साथ ही जो पार्टी की आगामी योजनाएं व कार्यक्रम होने हैं उनके विषय में भी बात होगी। कुछ दिन पहले यह बात सामने आई कि गोविंद नगर सीट पर उपचुनाव सितंबर में हो सकते हैं, इसलिए भाजपा के अलावा कांग्रेस, सपा-बसपा में भी गतिविधियां तेज हुईं। पार्टियों की ओर से दावेदारों की तलाश शुरू हो गई है। वहीं दावेदार भी अपने आकाओं से टिकट की आस में मुलाकात कर रहे हैं।

दूसरी बार उपचुनाव
गोविंद नगर विधानसभा सीट पर दूसरी बार बाई-इलेक्शन होगा। पहली बार इस सीट पर उपचुनाव 2 बार कांग्रेस से विधायक रहे विलायतीराम कात्याल की हत्या हो जाने कारण हुआ था। कत्याल की 1988 में आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उपचुनाव में भाजपा से बालचंद्र मिश्रा पहली बार विधायक बने थे। हालांकि, परिसीमन के बाद बनी गोविंद नगर विधानसभा क्षेत्र का ज्यादातर एरिया किदवई नगर, महाराजपुर और कैंट विधानसभा क्षेत्रों में चला गया। गोविंद नगर नाम से विधानसभा सीट तो बरकरार रही लेकिन इसमें ज्यादातर क्षेत्र नया जोड़ा गया। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सत्यदेव पचौरी 1,12,029, कांग्रेस अंबुज शुक्ला 40,520,बीएसपी निर्मल तिवारी 28,795 वो मिले थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned