बीमार अस्पताल को देख बोले डीएम कोरोना आया तो तो फजीहत तय

डीएम ने हैलट अस्पताल का किया निरीक्षण, अव्यवस्था देख चढ़ा पारा, प्रचार्य के साथ सीएमओ को तत्काल कदम उठाने के दिए आदेश।

By: Vinod Nigam

Published: 18 Mar 2020, 09:01 AM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुरकोरोना वायरस को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलाप्रशासन के अलावा स्वास्थ्य विभाग को कड़े निर्देश दिए हैं। इसी के तहत डीएम डॉक्टर ब्रह्म देव राम तिवारी ने हैलट अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। यहां पर इमरजेंसी में चोक वाशरूम, बायोमेडिकल वेस्ट का भरा हुआ बैग, मरीजों से आईसीयू के बेड फुल और संक्रामक रोग अस्पताल में इलाज के संसाधनों का अभाव देख डीएम चैंक गए और बोले अगर कोरोना वायरस रूपी आफत आ गई तो फजीहत तय है। इसलिए जो सारी व्यवस्था तत्काल करें। समस्या आए तो मुझे बताएं।

हैलट अस्पताल का किया निरीक्षण
डीएम डॉक्टर ब्रह्म देव राम तिवारी लाव-लश्कर के साथ हैलट अस्पताल पहुंचे और सीधे इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण करने लगे। डीएम को देख हैलट प्रशासन हरकत में आया। डीएम ने प्राचार्य प्रो. आरती लालचंदानी से मरीजों को स्टेबिल करने की जगह के बारे में जानकारी मांगी। वेंटीलेटर और आईसीयू के अन्य संसाधनों के बारे में पूछा। इस बीच डीएम की नजर शौचालय पर पड़ गई। उसकी हालत बेहद खराब थी। वाशरूम के सामने शीशा लगाने और सेनेटाइजर रखने की बात कही।

प्रचार्य को दिए निर्देश
डीएम ने हैलट अस्पताल की प्राचार्य प्रो. आरती लालचंदानी के अलावा अन्य डाॅक्टरों से कहा कि यह समय तनिक भी लापरवाही करने का नहीं है। कोरोना वायरस तेजी पैर पसार रहा है और इसलिए आपसब को अलर्ट पर रहना हैं। मास्क और सेनेटाइजर हर जगह उपलब्ध नहीं होने पर डीएम ने नाराजगी जताते हुए कहा कि अगर पॉजिटिव मरीज आ गए तो जिले की फजीहत हो जाएगी। पहली जरूरत बड़ा अस्पताल है, जहां इलाज के पूरे संसाधन होने चाहिए। आईसीयू की सुविधा होनी चाहिए। पर यहां के हलात बहुत खराब हैं। इस बीच हैलट प्रशासन की तरफ से फंड की बात डीएम से कही गई।

सीएमओं से कहा सारी व्यवस्थाएं करें दुरूस्त
डीएम ने अधिकारियों से कहा कि वे संसाधन, स्टाफ की सूची बना लें। उसके बाद स्थितियों की समीक्षा की जाएगी। उन्होंने कहा कि एक-दो करोड़ रुपए के उपकरण सीआरएस फंड से उपलब्ध हो जाएंगे। डीएम ने कहा कि बहुत काम करना है। सीएमओ से कहा कि पर्याप्त संख्या में वेंटीलेटर उपलब्ध कराए जाएं। साथ ही अव्यवस्था जल्द ठीक की जानी चाहिए। इस मौके पर डीएम ने उर्सला अस्पताल का जिक्र भी किया। कहा कि वहां भी हालात खराब हैं। ऐसे में कानपुर में हैलेट ही बड़ा अस्पताल है, जहां पर कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों का इलाज किया जा सकता है।

आइसोलेशन वार्ड को किया निरीक्षण
डीएम ने कोरोना वायरल आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया जिसमें 12 बेड की सुविधा के साथ जिसका संचालन किया जा रहा है। वार्ड के निरीक्षण के दौरान उन्होंने तत्काल इसे अन्य दूसरे स्थान में शिफ्ट करने के निर्देश दिए। डीएम ने हैलट अस्पताल के ही परिसर में बने 100 बेड के मातृ शिशु चिकित्सालय में ही कोरोना वायरस आइसोलेसन वार्ड बनाए जाने को कहा। डीएम ने कहा कि इस वार्ड में सिर्फ कोरोना से पीड़ित मरीजों का ही इलाज किया जाए। अन्य मरीजों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट करें।

डीएम ने लोगों से की अपील
इस मौके पर डीएम ने स्वास्थ्य कर्मियों को भी प्रोटेक्शन किट देने के साथ ही सावधानी बरनते के साथ मरीजों का इलाज करने के निर्देश दिए। डीएम ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि “कानपुर फाइट कोरोना” की इस मुहिम मेंमस्त नगरवासी अपना सहयोग करे, अफवाहों पर ध्यान न दे सुरक्षा ही बचाव है। डीएम ने कहा 20 सेंकेड तक हाथ साबुन से आवश्य धोए, मास्क लगाकर चले, मास्क न ।मिले तो रूमान लगाए व किसी कपड़े का मास्क स्वतरूही बनाकर उसका प्रयोग करें। भीड़ भाड़ वाले स्थानों में जाने के अलावा यात्रा करने से बचें।

Corona virus Corona Virus treatment coronavirus
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned