इस अस्पताल में डॉक्टर हेलमेट पहन कर मरीजों का करते इलाज !

Vinod Nigam

Publish: Jun, 15 2019 08:30:01 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। पश्चिम बंगाल में डाक्टरों पर हुए हमले के विरोध में, जहां देशभर के डॉक्टर अपना विरोध दर्ज कर रहे हैं तो वहीं कानपुर मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने अनोखा प्रदर्शन किया। उन्होंने ओपीडी बकाएदा हेलमेट पहन कर मरीजों का इलाज किया। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ नारेबाजी कर उन्हें चेतावनी दे डाली।

पर इस बार किया अनोखा प्रदर्शन
देश में कहीं पर भी डाक्टरों पर हमला तो सबसे पहले कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डाक्टर विरोध दर्ज कराते हैं। उनके विरोध में चिकित्सा सेवाएं पूरी तरह से ठप हो जाती हैं और मरीज व तीमारदार पूरी तरह से परेशान हो जाते हैं। लेकिन शुक्रवार को यहां के जूनियर डाक्टरों ने पश्चिम बंगाल की ममता सरकार के खिलाफ अनोखा विरोध प्रदर्शन किया। जूनियर डाक्टरों ने बंगाल में हुए डाक्टरों पर हमले के विरोध में हेलमेट लगाकर मरीजों का इलाज करने पहुंचे।

सहम गए मरीज
डॉक्टरों ने हड़ताल पर जाने के बजाए मरीजों को इजाल मिले इसके लिए वो अपने समय पर ओपीडी में पहुंचे। इस बीच डॉक्टरों के इंतजार में खड़े मरीज व तीमारदारों ने डॉक्टरों के सिर पर हेलमेट देखा तो वह सहम गए। इस बीच कई मरीज डर के चलते बिना इलाज के अपने-अपने घर चले गए। इसके आलावा डॉक्टर ऊंटी में भी सिर पर हेलमेट लगाकर अंदर दाखिल हुए। जिन मरीजों का ऑपरेशन उन्हें करना था वो डर गए। डॉक्टरों ने ऊंटी के अंदर हेलमेट उतार कर मरीजों का ऑपरेशन किया।

प्लीज डरें नहीं
मरीजों को खौफजदा देख जूनियर डाक्टरों ने समझाया कि कि आप लोग डरे नहीं आपका समुचित इलाज किया जाएगा। यह विरोध प्रदर्शन पश्चिम बंगाल की ममता सरकार के खिलाफ है। मेडिकल कालेज के जूनियर डाक्टर हैलट अस्पताल के इमरजेंसी से लेकर वार्ड, ओटी और ओपीडी में हेलमेट लगाकर काम करते रहे। इसके साथ ही सिर पर पट्टी भी बांधे रहे और अस्पताल की सभी सेवाएं विधिवत चालू रखते हुए ममता सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

डॉक्टर सुरक्षित नहीं
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की अध्यक्षा डॉक्टर अर्चना भदौरिया ने कहा कि जब डाक्टर ही सुरक्षित नहीं रहेगा तो कैसे स्वस्थ भारत की कल्पना की जा सकती है। कहा कि हमारी सरकार से मांग है कि डाक्टरों को सुरक्षा उपलब्ध करायी जाये। जिससे डाक्टर्स अपना शत प्रतिशत मरीजों के इलाज के लिए दे सकें। मेडिकल कालेज की प्राचार्या डॉक्टर आरती लाल चंदानी ने बताया कि आज जूनियर डाक्टरों ने ममता सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। लेकिन अस्पताल में किसी भी प्रकार का व्यवधान नहीं पड़ा और मरीजों का अन्य दिनों की भांति समुचित इलाज मुहैया कराया गया है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned