मरीजों से लिए गए पेमेंट को रिटर्न से छिपाकर जमा किया कालाधन

२८ ठिकानों से बरामद हुआ ४० करोड़ का काला धन

शहर के एसपीएम हॉस्पिटल से सात लाख रुपए किए गए सीज

कानपुर। कालाधन जमा करने में डॉक्टर किसी से कम नहीं। अस्पतालों में भर्ती मरीजों से प्रतिदिन के हिसाब से लिया गया धन रिटर्न से छिपाकर बड़ी मात्रा में कालाधन जमा किया गया। यही पैटर्न शहर के अलावा प्रदेश के कई अस्पतालों ने अपनाया। वास्तविक कमाई को आय दस्तावेजों में कम दर्शाया गया।

प्रदेश में कई जगह हुई कार्रवाई
आयकर विभाग ने प्रदेश के सात शहरों में डॉक्टरों के 28 ठिकानों पर छापे मारे। जिसमें कुल 40 करोड़ रुपए के कालेधन का खुलासा हुआ है। शहर के पूर्व डीजीएमई के कल्याणपुर स्थित एसपीएम हॉस्पिटल से सात लाख रुपए सीज किए गए हैं। इसके अलावा ट्रस्ट की आड़ में काली कमाई को सफेद करने के भी प्रमाण मिले हैं।

सभी जगह चोरी का एक ही तराका
प्रधान आयकर निदेशक जांच अमरेन्द्र कुमार के निर्देश पर कानपुर, नोएडा, लखनऊ, मुरादाबाद, हापुड़, मेरठ और गाजियाबाद में सभी जगह छापे मारे गए। सभी जगह टैक्स चोरी के एक जैसे रास्ते मिले। मरीजों से प्रतिदिन की हिसाब से पैसा लिए जाते थे, जिसे आयकर रिटर्न में छिपाया गया। रिटर्न की तुलना वास्तविक कमाई से की आय दस्तावेजों में कई गुना कम दिखाई गई।

बड़ी जगहों पर मिला बड़ा गोलमाल
लखनऊ स्थित आवास ऊषा विला, एसपीएम नर्सिंग कॉलेज, एसपीएम इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेंस, एवारॉय इंफ्रास्ट्रक्चर्स, एसआईपीएस सर्जरी हॉस्पिटल, एल्टिस इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, केएलएस आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज और केएलएस फार्मेसी कॉलेज को जांच के दायरे में लिया गया था। जांच में कागजों में कम आय दिखाने के प्रमाण मिले। सात लाख रुपए कैश सीज किए गए हैं इसके अलावा करोड़ों के अघोषित निवेश के दस्तावेज मिले, जिनकी जांच आयकर विभाग की ओर से अभी भी जारी है। कांचीलाल शास्त्री मेमोरियल ट्रस्ट के जरिए ब्लैक एंड व्हाइट के प्रमाण भी मिले।

 

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned