फिर चिकित्सकों का भी टूट गया धैर्य, और इस तरह किया विरोध प्रदर्शन, वजह है ये बेरहम घटना

Arvind Kumar Verma

Updated: 04 Dec 2019, 06:29:13 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-हैदराबाद में बेकसूर महिला डॉक्टर प्रियंका रेड्डी के साथ हुई शर्मनाक घटना के बाद पूरे देश में उबाल आ गया है। लोग सड़कों पर उतर आए हैं। एक के बाद एक बलात्कार, हत्या जैसी घटनाओं को लेकर लोग चुप्पी तोड़ चुके हैं। शहर से लेकर गांव तक लोग कैंडल मार्च निकालकर नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस अत्याचार को लेकर महिलाएं भी इस विरोध प्रदर्शन में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रही हैं। एक महिला डॉक्टर की बेरहम हत्या से आजिज कानपुर देहात के निजी चिकित्सकों ने भी शांतिपूर्ण ढ़ंग से विरोध शुरू कर दिया है। निजी चिकित्सक अपने हाथों में काली पट्टी बांधकर विरोध जताते हुए अपना कार्य निपटा रहे हैं। ऐसे में सभी के मन में एक सवाल उठ रहा है कि आखिर कब तक प्रियंका जैसी कितनी लड़कियों महिलाओं पर ये जुल्म होते रहेंगे। फिलहाल लोग ऐसे अपराधियों और हत्यारों के खिलाफ सख्त सजा की मांग करने पर उतर आए हैं।

दरअसल हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ हुई हैवानियत की घटना के बाद घटना को अंजाम देने वाले हैवानों को जहां पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हो। बावजूद इसके लोगो का आक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा है। संसद से लेकर सड़क तक और शहरों से लेकर गांव तक हर तरफ लोग महिला डॉक्टर को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। इसके साथ विरोध प्रदर्शन कर आरोपियों को फांसी दिए जाने की मांग कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ नजारा यूपी के जनपद कानपुर देहात में झींझक व अकबरपुर सहित अन्य स्थानों पर देखने को मिल रहा है। जहाँ लोग महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत के चलते अपना आक्रोश व्यक्त कर रहे है।

कानपुर देहात में कहीं काली पट्टी बांधकर, तो कही श्रद्धांजलि सभा, तो कही कैंडल मार्च निकालकर लोग अपना विरोध व्यक्त कर रहे हैं। यही नही सरकार से इस हैवानियत के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही किये जाने की मांग भी कर रहे हैं। साथ ही लोगो से अपनी बच्चियों की स्वयं सुरक्षा करने के साथ ही महिलाओं और लड़कियों से सेल्फ डिफेंस रहने की अपील कर रहे है। वहीं निजी चिकित्सक संजय त्रिपाठी ने कहा कि हैदराबाद में महिला चिकित्सक के साथ हुई रेप के बाद हत्या जैसे जघन्य अपराध से हम चिकित्सकीय वर्ग के लोग आहत है। डॉक्टर होने के चलते हम लोग शांतिपूर्ण ढ़ंग से हाथों में काली पट्टी बांधकर विरोध जताते हुए दायित्वों का निर्वहन भी कर रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned