अफसरों ने कर दी बड़ी लापरवाही, जिसका खामियाजा अधेड़ को इस तरह चुकाना पड़ा

Arvind Kumar Verma

Publish: May, 17 2019 08:34:32 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-जिले में एक बार फिर बिजली विभाग की लापरवाही के चलते हाहाकार मच गया, जब एक अधेड़ सहित 8 बेजुबान जानवरों की विद्युत तारों की चपेट में आने से मौत हो गई। ग्रामीणों ने बताया कि बीते 2 दिनों से 11000 हजार बोल्टेज के तार टूटे पड़े थे, जिसकी सूचना कई बार अवर अभियंता विद्युत को दी गई, लेकिन किसी ने सुनवाई नही की। इस लापरवाही के परिणाम स्वरूप विद्युत तारों में दौड़ रहे करंट चपेट में आने से बड़ी घटना हो गई। फिलहाल घटना से ग्रामीणों में बिजली विभाग के खिलाफ आक्रोश देखने को मिला। बताया गया कि आए दिन जैनपुर फीडर में कई घटनाएँ हो चुकी हैं लेकिन प्रशासन उन पर कोई सुनवाई नहीं करता है। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

 

कानपुर देहात के सट्टी थाना क्षेत्र के सदर कस्बा में बकरी चराने गए गांव निवासी एक वृद्ध मोहम्मद शमी की पहले से ही टूटे पड़े 11000 विद्युत तार की चपेट में आकर दर्दनाक मौत हो गई। उसके साथ चरने जा रही उसकी दो बकरियां भी तार की चपेट में आकर मर गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार सट्टी थाना के सदर कस्वा निवासी शमी अपनी बकरियों को चराने खेत पर गया हुआ था। रास्ते मे पहले से ही टूटे पड़े 11000 वोल्टेज विद्युत तार की चपेट में आकर उसकी दर्दनाक मौत हो गई। जबकि एक बकरा और एक बकरी की भी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। बताया गया कि इसके अतिरिक्त करीब आधा दर्जन जंगली जानवर भी चपेट में आकर मार चुके हैं।

 

घटना की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचायत नामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है। वहीं घटना की सूचना पर पहुंचे तहसीलदार भोगनीपुर व विद्युत विभाग के कर्मचारियों द्वारा पीड़ित परिवार को ढॉढस बंधाते हुए परिजनों को पांच लाख मुआवजे का आश्वासन दिया गया। फिलहाल 200000 रुपये की चेक अग्रिम सहायता राशि के तौर पर पीड़ित परिवार को तत्काल प्रदान की गई। बताया गया कि मृतक के दो पुत्र साबेज व सद्दाम है। फिलहाल घटना से पत्नी साकरा सहित पूरे परिवार का रो रोकर बुरा हाल है। थानाध्यक्ष सट्टी दिग्विजय सिंह ने बताया कि विद्युत विभाग द्वारा अग्रिम सहायता राशि प्रदान की गई है, शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned